Kaluchak Military Station: जम्मू हवाई अड्डे पर उच्च सुरक्षा वाले भारतीय वायु सेना स्टेशन में विस्फोटकों से लदे दो ड्रोन के दुर्घटनाग्रस्त होने के कुछ घंटों बाद रविवार रात जम्मू में एक सैन्य शिविर के पास दो ड्रोन घूमते देखे गए। घटना रविवार रात और फिर सोमवार सुबह की है।

कालूचक में आर्मी गैरीसन में सेना के एक संतरी ने रविवार को रात 11 बजे से 11:30 बजे के बीच ब्रिगेड मुख्यालय पर एक वस्तु को मँडराते देखा था। संदिग्ध ड्रोन को देखकर त्वरित प्रतिक्रिया टीमों ने गोलियां चलाईं। करीब 3 बजे संतरी ने ड्रोन को फिर से देखा और त्वरित प्रतिक्रिया टीमों ने इसे नीचे लाने के लिए तेजी से गोलियां चलाईं।

सैन्य स्टेशन के बाहर के पूरे इलाके को तुरंत घेर लिया गया और बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू किया गया। पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक अभी तक जमीन पर कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला है।

लेफ्टिनेंट कर्नल ने कहा, “हाई अलर्ट जारी किया गया था और त्वरित प्रतिक्रिया टीमों ने उन पर गोलीबारी की। दोनों ड्रोन उड़ गए। Kaluchak Military Station सैनिकों की सतर्कता और सक्रिय दृष्टिकोण से एक बड़ा खतरा विफल हो गया। सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर हैं और तलाशी अभियान जारी है” देवेंद्र आनंद, पीआरओ, डिफेन्स ने कहा।

ताजा घटना बमुश्किल एक दिन बाद आती है जब एक ड्रोन ने अपनी तरह के पहले हमले में जम्मू में भारतीय वायुसेना स्टेशन पर दो बम गिराए, जिससे दो कर्मियों को मामूली चोटें आईं। पहला धमाका शहर के सतवारी इलाके में भारतीय वायुसेना द्वारा संचालित हवाई अड्डे के तकनीकी क्षेत्र में एक मंजिला इमारत की छत से हुआ। दूसरा जमीन पर था, अधिकारियों ने कहा।

Kaluchak Military Station, धमाकों की आवाज एक किलोमीटर दूर तक सुनी गई और इससे इन इलाकों के लोगों में दहशत फैल गई। जम्मू हवाई अड्डे और अंतरराष्ट्रीय सीमा के बीच हवाई दूरी 14 किमी है। जांचकर्ता दोनों ड्रोन के उड़ान पथ का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़े: राहुल गांधी ने साधा केंद्र पर निशाना: श्वेत पत्र जारी कर केंद्र सरकार को सुझाई चार बातें, तीसरी लहर की तैयारी है ज़रूरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here