स्प्रिंग अनियन स्वाद में भी अनोखा और स्वास्थ्य में गुणकारी

0
2025
Spring Onion ke Fayde

Spring Onion ke Fayde: शीत ऋतु के समय उत्तर भारत में स्प्रिंग अनियन के पराठे और सब्जी को बच्चे से लेकर के बुजुर्ग तक बड़े चाव से खाते हैं। स्प्रिंग अनियन का उपयोग सब्जी बनाते वक्त सब्जी में तड़का के लिए उपयोग किया जाता है और दाल फ्राई के लिए भी उपयोग किया जाता है। इतना ही नहीं इसका उपयोग तरह-तरह के लजीज व्यंजन बनाने में भी उपयोग किया जाता है जैसे कि पिज़्ज़ा और चिकन और इसके अलावा शाही पनीर और कढ़ाई पनीर में भी। भारत में सबसे ज्यादा प्याज का उत्पादन महाराष्ट्र राज्य में होता है। महाराष्ट्र के अलावा कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश में भी इसकी खेती की जाती है। यदि वैश्विक स्तर पर देखा जाए तो अपने कुल उत्पादन का 20 प्रतिशत भारत अपने पड़ोसी देशों को जैसे बांग्लादेश, नेपाल ,श्रीलंका ,पाकिस्तान निर्यात करते हैं। विश्व में 1789 हजार हेक्टेयर में प्याज की खेती की जाती है। वैश्विक स्तर पर इसका उत्पादन 25387 मीट्रिक टन है। स्प्रिंग अनियन जिसे हम हरा प्याज भी कहते हैं। इस हरे प्याज में विटामिन और कॉपर और मैग्नीशियम पोटेशियम जैसे मिनरल भी पाए जाते हैं। जितना खाने में स्वादिष्ट होता है स्प्रिंग अनियन उतना ही हमारे सेहत के लिए लाभप्रद भी होता है।

पोषक तत्वों का खजाना स्प्रिंग अनियन क्या होता है?

स्प्रिंग अनियन को हिंदी में हरा प्याज भी कहते हैं। हरा प्याज इसलिए कहा जाता है क्योंकि जब प्याज की नर्सरी तैयार करके प्याज की रोपाई खेतों में की जाती है। जिसके परिणाम स्वरूप 15 से 20 दिन के बाद हरे प्याज की पत्ती स्प्रिंग के आकार में दिखने लगती है। रंग उसका गहरा हरा हो जाता है। फिर उसके बाद इस प्याज को खेत में से उखाड़ करके उसकी पकौड़ी और सब्जी के रूप में इसका उपयोग किया जाता है।

Spring Onion Benefits in Hindi

स्प्रिंग अनियन में कौन -कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं?

(1) विटामिन ए

(2) विटामिन सी

(3) विटामिन B2

(4) विटामिन के

(5) थायमीन

(6) कॉपर

(7) फास्फोरस

(8) पोटेशियम

(9) मैग्नीशियम

(10) क्रोमियम

(11) मैग्नीज

(12) सल्फर

(Spring Onion ke Fayde) स्प्रिंग अनियन के सेवन के पश्चात इस से होने वाले फायदे क्या-क्या मिलते हैं?

(1) मधुमेह रोग से होने वाले खतरे को रोकने में सहायक

लाइफस्टाइल परिवर्तन होने के कारण हर 10 में से एक व्यक्ति मधुमेह रोग से पीड़ित है। मधुमेह रोग होने के कारण है ब्लड में शुगर की मात्रा का बढ़ जाना। जिसके परिणाम स्वरुप इंसुलिन का स्रावण कम हो जाता है। लेकिन यदि आप अपने प्रतिदिन आहार में स्प्रिंग अनियन का सेवन करते हैं। इससे इंसुलिन का स्रावण अत्यधिक हो जाएगा। इसका कारण यह है कि स्प्रिंग अनियन में सल्फर नामक कंपोनेंट्स पाया जाता है जो इंसुलिन के स्रावण को तेज कर देता है।

मधुमेह रोग

(2) क्षणभंगुर हड्डियों को स्ट्रांग करें

समय के साथ हमारे शरीर में भी परिवर्तन होता है। जिसके परिणाम स्वरूप हमारी हड्डियां कमजोर होने लगती है। इसका कारण है आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों का न मिल पाना और व्यस्त दिनचर्या। हालांकि आपको बता देगी स्प्रिंग अनियन का सेवन करने वाले व्यक्तियों को अब हड्डियों की समस्या से आसानी से निजात मिल जाएगा क्योंकि स्प्रिंग अनियन में विटामिन k पाया जाता है जो हमारे हड्डियों को स्ट्रांग करेगा। विटामिन k एक ऐसा विटामिन है जो समय के साथ हड्डियां क्षणभंगुर हो रही हैं उसकी रफ्तार को धीमा करता है और साथ ही साथ हड्डी को स्ट्रांग ही बनाता है।

(3) कैंसर जैसे घातक रोग से भी बचाता है

स्प्रिंग अनियन में एलिल सल्फाइड और फ्लेवोनॉइड नामक जैसे योगिक पाए जाते हैं जो कैंसर कोशिकाओं को उत्पादन करने वाले एंजाइम होते हैं उनसे लड़ते हैं। जिससे कैंसर होने की प्रायिकता कम हो जाती है।

(4) हार्ट को हेल्थी बनाता है

स्प्रिंग अनियन में विटामिन सी पाया जाता है विटामिन सी शरीर में बन रहे बैड कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है। इसके अलावा स्प्रिंग अनियन में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है फाइबर युक्त भोजन करने से कुछ सीमा तक लो डेंसिटी लिपिड कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करता है।

Healthy Heart

(5) हेयर फॉल रोकने में सहायक

स्प्रिंग अनियन में विटामिन सी पाए जाने के कारण काफी हद तक हमारा हेयर फॉल भी रुक जाता है। एक सर्वे के मुताबिक यदि कोई व्यक्ति प्रतिदिन अपने आहार में विटामिन सी से युक्त भोजन को शामिल करता है तो उसके बाल औरों की अपेक्षा अधिक चमकदार और खिले हुए और हेल्थी पाए गए हैं।

स्प्रिंग अनियन के नुकसान क्या -क्या है?

(1) हृदय स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है। इसका कारण यह है कि इसमें कैल्शियम पाया जाता है। कैल्शियम की अधिक मात्रा से हार्ट की प्रॉब्लम हो सकती है।

(2) यदि आप स्प्रिंग अनियन का सेवन बिना पकाए ही करते हैं तब आपके मुंह से दुर्गंध भी आ सकती है। इस दुर्गंध आने से आप किसी सामाजिक समारोह में नहीं जा सकते हैं। यदि जाना चाहते है तो आपको बात करते समय सावधानी बरतनी होगी।

(3) स्प्रिंग अनियन में फाइबर भी पाया जाता है। यदि हमारे शरीर में  फाइबर की मात्रा ज्यादा हो जाएगी तो हमें उल्टी ,मतली और कब्ज गैस की समस्या भी हो सकती है।

स्प्रिंग अनियन का सेवन किस- किस रूप में किया जा सकता है

(1) सब्जी के रूप में

(2)आचार के रूप में

(3)पकौड़ी के रूप में

(4)सलाद के रूप में

निष्कर्ष:

स्प्रिंग अनियन सेवन करने के पश्चात या हमारे शरीर में होने वाले रोगों जैसे डायबिटीज और बैड कोलेस्ट्रॉल इसके अलावा क्षणभंगुर हड्डी और हेयर फॉल को कम करता है।

(1) प्याज से गंध क्यों आती है?

प्याज से गंध इसलिए आती है क्योंकि प्याज में सल्फर पाया जाता है। सल्फर एक तीक्ष्ण गंध वाला योगिक है।

(2) स्प्रिंग अनियन की तासीर कैसी होती है?

स्प्रिंग अनियन की तासीर ठंडी होती है।

(3) स्प्रिंग अनियन का सेवन कैसे करें?

स्प्रिंग अनियन का सेवन पकौड़ी के रूप में सब्जी के रूप में सलाद के रूप में सलाद के रूप में कर सकते हैं।

(4) 1 दिन में कितना कच्चा प्याज खाया जा सकता है?

1 दिन में एक ही कच्चा प्याज का सेवन करना आयुर्वेदिक दृष्टिकोण से सही है।यदि इसका ज्यादा मात्रा में सेवन किया जाए  हार्ट की प्रॉब्लम और कब्ज गैस की भी समस्या हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here