शीतकालीन मौसम में शरीर को गर्म कैसे रखें

0
1041
Shitkalin Mausam Me Sharir ko Garam Kaise Rakhe

Shitkalin Mausam Me Sharir ko Garam Kaise Rakhe: नवंबर महीने के दूसरे सप्ताह से जब शीतकालीन मौसम प्रारंभ हो जाता है तो ऊनी वस्त्रो की मांग ज्यादा हो जाती है। ऊनी वस्त्रो की मांग इसलिए ज्यादा हो जाती है क्योंकि लोग अपने शरीर को गर्म रखना चाहते हैं। ऊनी वस्त्र उस्मा का कुचालक होता है। इसीलिए ठंड नहीं लगती है। भारत में पश्मीना बकरी की साल से लेकर के भेड़ के बाल से बने ऊनी वस्त्रो की मांग बहुत ज्यादा हो जाती है। लोग जो अभिजात्य वर्गीय परिवार से संबंध रखते हैं। वह आसानी से पश्मीना बकरी की साल का यूज़ अपने शरीर को गर्म रखने के लिए करते हैं और जो मध्यमवर्गीय परिवार और निम्न वर्ग की नीचे वाला परिवार है। वह यह कयास लगाता है कि मिंत्रा, फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसे ई-कॉमर्स वेबसाइट पर कोई बंपर ऑफर आ जाए। लेकिन कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनका सेवन करके आप अपने शरीर के तापमान को इनक्रीस कर सकते हैं। यह खाद्य पदार्थ आपको आपने घर में ही मिल जाएंगे। आपको किसी दुकान पर जाकर के खरीदने की आवश्यकता नहीं है। आपके मन में यह भी प्रश्न उठ रहा होगा कि क्या जो खाद्य पदार्थ हमारे घर में उपलब्ध हैं वह कारगर साबित होंगे शरीर के तापमान को बढ़ाने में तो इसके विषय में बोलूंगा हां तो चलिए जाते हैं।

शीतकालीन मौसम में शरीर को गर्म करने की आवश्यकता क्यों पड़ती है?

(1) ठंडी के मौसम में यदि शरीर गर्म रहता है तब आपको सर्दी जुकाम और वायरल इनफेक्शन होने की संभावना कम होगी।

(2) शरीर गर्म रहने से आप अपने काम को बखूबी से और पूरी निष्ठा से कर पाएंगे। यदि आप ठंड से ठिठुरते रहेंगे तो काम नहीं कर पाएंगे इससे आपकी प्रोडक्टिविटी भी प्रभावित होगी।

(3) शीतकालीन मौसम में यदि शरीर का तापमान बाहर के तापमान से से ज्यादा रहता है तो इसका एक लाभ यह होता है कि इससे आपका जो थॉट प्रोसेस है वह पॉजिटिव होगा। पॉजिटिव इसलिए होगा क्योंकि आपके अंदर ऐसे हार्मोन स्रावित होंगे जो आपके विचारों के अनुकूल हो।

(4) शीतकालीन मौसम में जब तापमान अधिक गिर जाता है। जिससे हमें तरह -,तरह की समस्या होने लगती है जैसे कि होंठ फटने लगते हैं चेहरे से चमक चली जाती है। तब हमें इसके लिए मॉइस्चराइजर की जरूरत पड़ती है। लेकिन यदि आप चाहते हैं। इन सब की आवश्यकता ना पड़े। तब आप अपने बॉडी को बाहर की एटमॉस्फेयर टेंपरेचर के कंपेयर में ज्यादा गर्म रखिए।

Shitkalin Mausam Me Sharir ko Garam Kaise Rakhe

परंपरागत तरीके से Shitkalin Mausam Me Sharir ko Garam Kaise Rakhe?

(1) परंपरागत तरीके से यदि शरीर को शीतकालीन मौसम में गर्म रखना चाहते हैं तो इसके लिए आप सबसे पहले अलाव का उपयोग कर सकते हैं उत्तर भारत में अलाव का उपयोग बहुत ज्यादा होता है अभी हालिया में एक रिपोर्ट आई जिसके अनुसार दिल्ली में 50% ठंडी के मौसम में प्रदूषण का कारक अलग ही है क्योंकि अलाव से कार्बन डाइऑक्साइड गैस और ना जाने कैसे हानिकारक कैसे निकलती है जो मनुष्य के लिए हानिकारक है लेकिन ग्रामीण प्रदेशों में शरीर को गर्म करने के लिए बहुत ज्यादा किया जाता है उत्तर भारत में अलाव को क्षेत्रीय भाषा में कौड़ा या तप्ता भी बोलते हैं

(2) ऊनी वस्त्र का उपयोग करके शरीर को गर्म किया जा सकता है विश्व के किसी भी देश में शरीर को गर्म रखने के लिए सबसे ज्यादा ऊनी वस्त्र का ही उपयोग किया जाता है क्योंकि ऊनी वस्त्र उस्मा का सुचालक होता है जो हमें ठंड से सुरक्षा प्रदान करता है।

(3) प्रतिदिन मॉर्निंग में एक्सरसाइज भी शरीर को गर्म करने के लिए सबसे अच्छा विकल्प है इससे शरीर में फुर्ती भी आती है और अनवांटेड और हार्मफुल टॉक्सिन शरीर से निकल जाते हैं पसीने के रूप में।

(4) आसन जैसे मयूरासन, सेतुबंधासन,पद्मासन और शीर्षासन और गोमुखासन और ताड़ासन और वृक्षासन जैसे आसन करने से भी शरीर में गर्मी होती है

घर में उपलब्ध खाद्य पदार्थों सेवन करके शरीर को कैसे गर्म रखें?

(1) हम सबके घरों में शहद अवश्य होता है। क्या आपको पता है यह शहद हमारे शरीर को गर्म रखने में काफी अपनी अहम भूमिका निभाता है। बस आपको शीतकालीन के मौसम में रोजाना एक चम्मच शहद का सेवन करना है। इससे आपका शरीर गर्म रहेगा और आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी स्ट्रांग होगी।

(2) उत्तर प्रदेश में सर्दी के मौसम में ठंड से बचने के लिए गुड़ का सेवन किया जाता है। गुड़ की तासीर गर्म होती है जिसके परिणाम स्वरुप यह में ठंड से भी बचाती है और साथ ही साथ यदि गले में कोई इंफेक्शन हो गया है। उससे भी निजात दिलाती है। गुड में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीमाइक्रोबॉयल का गुण पाया जाता है।

(3) सब्जियों और चाय में उपयोग होने वाला अदरक भी शरीर को अंदर से गर्म रखता है अदरक में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल का गुण पाया जाता है जिससे हमारा शरीर कई बीमारियों से सुरक्षित रहता है।

(4) नॉन वेजिटेरियन के लिए शरीर को गर्म रखने के लिए सबसे अच्छा विकल्प अंडा है। यदि प्रतिदिन सुबह अपने ब्रेकफास्ट में अंडे को शामिल करते हैं तो इससे शरीर भी गर्म रहेगा और साथ ही साथ बाल भी साइन और हेल्थी रहेंगे। इसके अलावा मांसपेशियों के निर्माण के लिए इसमें एल्बुमिन प्रोटीन पाया जाता है इसके अलावा अंडा सबसे अच्छा स्रोत है प्रोटीन का।

(4) शरीर को गर्म रखने के लिए पेय पदार्थों में चाय और सूप का भी उपयोग कर सकते हैं। यह भी आपको आंतरिक रूप से गर्मी प्रदान करती है। जिससे आपका शरीर ठंड में सिकुड़ता नहीं है।

(5) ठंड के मौसम में शरीर को गर्म रखने के लिए दूध सबसे अच्छा विकल्प है और लगभग लगभग हर व्यक्तियों के घर में उपलब्ध भी रहता है। दूध में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन 12 पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद है।

निष्कर्ष:

शीतकालीन की मौसम के प्रारंभ से ही हम सब ठंड से बचने के लिए ऊनी वस्त्र से लेकर के खाद्य पदार्थों को लेकर सतर्क हो जाते हैं। ठंड के मौसम में किस खाद्य पदार्थ का सेवन करें जिसकी तासीर सबसे गर्म हो।

FAQ:

(1) शरीर में गर्मी बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा क्या है?

शरीर में गर्मी बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा अश्वगंधा है।

(2) खाने में सबसे गर्मी चीज क्या है?

खाने में सबसे गर्म चीज घी है। घी में फैटी एसिड पाया जाता है जो आपके शरीर के अंदरूनी भागों को गर्म रहता है।

(3) गर्म चीज खाने के नुकसान क्या है?

गर्म चीज खाने से गले में सूजन और दातों में से इनैमल प्रोटीन का हट जाना और जीभ जलने की प्रॉब्लम होती है।

(4) गरम खाना अच्छा क्यों लगता है?

गरम खाना इसलिए अच्छा लगता है क्योंकि गरम खाने का सरफेस टेंशन ठंडे खाने की अपेक्षा कम होती है। जिसके परिणाम स्वरूप वह जीभ के अधिक एरिया को घेरती है जिससे हमें खाना स्वादिष्ट लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here