शिलांग में घूमने की जगह

0
1063
Shillong Tourist places

Shillong Tourist places:- पूर्व के स्कॉटलैंड के नाम से फेमस शिलांग जो मेघालय की राजधानी है। शिलॉन्ग चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। शिलांग में स्थित शिलांग पीक से शिलांग शहर को देखने पर जो आनंद मिलता है उसका कोई तोड़ नहीं है। इसके अलावा लेडी हैदरी पार्क में तितलियों की जो विविधता पाई जाती है वह भारत के किसी अन्य स्थानों पर पाया जाना असंभव है। इन तितली की प्रजातियों को देख करके आपके मन में यही एक प्रश्न उठेगा की प्रकृति का स्वरूप अनोखा है। प्रकृति खुद ही अपने आप में डाइवर्सिटी से भरा हुआ है। शिलॉन्ग में जाने के लिए आपको वायुयान और रेल मार्ग और सड़क मार्ग की सुविधा आसानी से मिल जाती है और यहां का फेमस मछली का अचार टूरिस्टों के लिए अट्रैक्शन का प्रमुख केंद्र है।

पर्यटकों के नजरिए से शिलॉन्ग में घूमने की जगह कौन-कौन सी है?

(1) शिलॉन्ग पीक

मेघालय की राजधानी शिलांग में स्थित शिलांग पीक पर्यटकों की व्यूप्वाइंट से एक इंपॉर्टेंट टूरिस्ट प्लेस है। इस टूरिस्ट प्लेस पर हर दिन हजारों की संख्या में भीड़ होती है। कुछ इतिहासकारों की मानें तो शिलॉन्ग पीक के नाम से ही 1864 में शिलॉन्ग नामक शहर बना। शिलांग पीक की ऊंचाई समुद्र तल से 1961 मीटर है, इसकी इतनी ऊंचाई होने के कारण वहां के स्थानी ट्राइब खांसी के अनुसार उनके देवता लीशिलांग शिलांग पीक पर रहते हैं जो शिलांग सिटी की निगरानी करते हैं।

(2) लेडी हैदरी पार्क

लेडी हैदरी पार्क छोटे बच्चों के लिए फेमस टूरिस्ट प्लेस है यहां पर एक छोटा सा चिड़ियाघर, स्विमिंग पूल और झरना है जो इसे एक विशेष पाक का दर्जा देते हैं। लेडी हैदरी पार्क का नाम अकबर हैदरी की पत्नी के नाम पर रखा गया है। इस पार्क में रंग बिरंगी तितलियों की कई सौ की संख्या में प्रजातियां पाई जाती हैं।

(3) केलांग रॉक

यदि आपको आर्टिफिशियल लेक पसंद है तब आप केलांग रॉक जाना ना भूलें क्योंकि यहां पर लाखों की संख्या में चारों तरफ से पेड़ से घिरे है।

(4) मीठा झरना

मीठा झरना जो इंटरनेशनल लेवल पर स्वीट वाटरफॉल के नाम से फेमस है और इस मीठा झरने को शिलांगलांग के लोकल लोग वीटदेन के नाम से पुकारते हैं। इस मीठे झरने की समुद्र तल से ऊंचाई 96 मीटर है यह मीठा झरना पिकनिक मनाने के नजरिए से बहुत ही रोमांचकारी है।

(5) चेरापूंजी

भारत में स्थित चेरापूंजी नाम का स्थान इसलिए फेमस था क्योंकि यहां पर पहले सबसे ज्यादा वर्ल्ड लेवल पर वर्षा होती थी। लेकिन क्लाइमेट चेंज की वजह से चेरापूंजी से कुछ दूर स्थित मासिनराम नामक जगह पर सबसे ज्यादा वर्षा होती है। यह स्थान भी टूरिस्टों के लिए आकर्षण का केंद्र है।

(6) उमियम झील

उमियम झील एक आर्टिफिशियल लेक है। इस झील में कई प्रकार के वाटर स्पोर्ट्स जैसे बोटिंग, वॉटर साइकलिंग और स्कूटरिंग जैसे खेल का संचालन भी किया जाता है और टूरिस्ट भी इस खेल का आनंद उठाने के लिए उमियम झील अवश्य आते हैं।

(7) हाथी झरना

हाथी झरना पर हजारों की संख्या में टूरिस्ट हॉलिडे मनाने आते हैं। इस झरने की विशेषता यह है कि इस झरने के पास आप आसानी से जाकर के फोटोग्राफी कर सकते हैं और ऊपर से गिरते पानी की ध्वनि मन मस्तिष्क को शांति प्रदान करती है।

(8) महादेवखोला मंदिर

महादेवखोला मंदिर में हर वर्ष महाशिवरात्रि के अवसर पर बहुत बड़ा मेला लगता है। शिलांग के मारवाड़ी समाज इस मेले में बढ़-चढ़कर के भाग लेते हैं और साथ ही साथ महादेवखोला मंदिर से जुड़ी कई दंत कथाएं भी हैं जो आपको यहां आने पर मजबूर कर देती है।

शिलांग की फेमस टूरिस्ट प्लेस को देखने के लिए शिलांग कैसे जाएं?:

Shillong Tourist places
(1) सड़क मार्ग के द्वारा

शिलांग जाने के लिए यदि कोई सड़क मार्ग का चयन करता है तो उसको यह जान लेना आवश्यक है कि वह सड़क मार्ग से कैसे जाए तो आपको इसके लिए बता दूं कि सड़क मार्ग से जाने के लिए आप नेशनल हाईवे 40 पर आपको गुवाहाटी पर शिलांग के लिए बस आसानी से मिल जाएगा और त्रिपुरा, मिजोरम से भी आप शिलांग आसानी से जा सकते हैं।

(2) वायु मार्ग के द्वारा

शिलांग सिटी से 30 किलोमीटर दूर लोकेटेड उमरोई एयरपोर्ट के माध्यम से आप आसानी से शिलांग पहुंच सकते हैं। बस इसके लिए आपको कोलकाता से उमरोई के लिए हवाई जहाज पकड़ना है। अब आप सोच रहे हैं कि क्या उमरोई के लिए दिल्ली एयरपोर्ट से कोई जहाज उड़ान नहीं भर्ती है तो इसके लिए आपको बता दें नहीं कोई भी जहाज दिल्ली एयरपोर्ट से उमरोई के लिए उड़ान नहीं उड़ती है।

(3) रेल मार्ग के द्वारा

शिलांग का निकटतम रेलवे स्टेशन गुवाहाटी रेलवे स्टेशन है जो शिलांग से 104 किलोमीटर दूरी पर स्थित है आपको शिलांग जाने के लिए गुवाहाटी से आसानी से ट्रेन मिल जाएगी।

निष्कर्ष:

मेघालय की राजधानी शिलांग में घूमने की कई जगह है जैसे उमियम झील और हाथी झरना और चेरापूंजी और मीठा झील, शिलांग ठीक जैसे टूरिस्ट प्लेस आपको अपनी ओर अट्रैक्टिव करते हैं।

Faq:
(1) शिलांग घूमने का सबसे अच्छा समय क्या है?

सितंबर से लेकर के मई के बीच में जितने भी महीने पड़ते हैं वह महीने शिलांग में घूमने के नजरिए से सबसे अच्छे महीने हैं क्योंकि तब मौसम खुशनुमा रहता है।

(2) शिलांग में किन जगहों पर जाना चाहिए?

आप यदि छुट्टियां बिताने शिलॉन्ग जा रहे हैं तो शिलांग पीक, उमियम झील और मीठा झरना जाना ना भूलें क्योंकि यह प्लेस प्रकृति का सबसे उत्तम उदाहरण है।

(3) शिलांग घूमने के लिए कितने दिन चाहिए?

शिलॉन्ग घूमने के लिए कम से कम 7 दिन चाहिए इन 7 दिनों में आप पूरे शिलॉन्ग में भ्रमण कर सकते हैं।

(4) क्या जुलाई में शिलॉन्ग की यात्रा करना सुरक्षित है?

जुलाई का महीना पर्यटकों के लिए अच्छा नहीं है क्योंकि शिलांग में इस महीने में गर्मी बहुत ज्यादा पड़ती है।

(5) शिलांग कौन से राज्य में पड़ता है

शिलांग भारत के मेघालय राज्य में पड़ता है और साथ ही साथ शिलांग मेघालय की राजधानी भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here