शीतलचीनी के फायदे कौन-कौन से हैं

0
1631
Sheetal Chini ke Fayde

Sheetal Chini ke Fayde: जो मनुष्य प्रकृति के जितना नजदीक होता है। वह उतना ही स्वस्थ होता है। प्रकृति में पाए जाने वाले अनेक आयुर्वेदिक औषधि हमारे शरीर में होने वाले विकारों को दूर करने में काफी हद तक कारगर होता है। यहां तक की यह भी कँहा जाता है कि प्रकृति पृथ्वी पर संतुलन लाने के लिए यदि भूकंप लाती है तो इसके अलावा मनुष्य के अंदर जो जानलेवा बीमारियां हो जाती है इसको भी ठीक करता है। यह आयुर्वेदिक औषधि हमारी विरासत है। लेकिन ना जाने क्यों हम अपनी विरासत को भूलते जा रहे हैं और कृत्रिम औषधियों की ओर अग्रसर होते जा रहे हैं। आज हम इन्हीं औषधियों में से एक ऐसे औषधि के विषय में चर्चा करने वाले हैं जिसका नाम है शीतलचीनी आपको नाम से मालूम हो रहा होगा कि यह एक प्रकार की चीनी है। जिसके सेवन करने के बाद जीभ को शीतलता प्रदान करती है। इसीलिए इसको शीतल चीनी भी कहा जाता है। शीतल चीनी में सोडियम कार्बोनेट और सोडियम ,पोटेशियम जैसे महत्वपूर्ण खनिज तत्व पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीपायरेटिक का गुण भी पाया जाता है तो चलिए जानते हैं सबसे पहले शीतलचीनी क्या होता है?

आइए जानते हैं कि शीतलचीनी क्या है और उसकी विशेषता क्या है?

शीतलचीनी का वैज्ञानिक नाम पाइपर क्यूबेबा है। शीतल चीनी नाम इसलिए इसका पड़ा क्योंकि इसका स्वाद मनमोहक होता है और इसके अलावा जीभ को शीतलता प्रदान करती है। शीतल चीनी देखने में काली मिर्च की तरह दिखती है। हालांकि काली मिर्च का स्वाद कड़वा होता है लेकिन इसका स्वाद कड़वा नहीं होता है। शीतलचीनी का मातृभूमि वाला देश जावा, सुमात्रा इंडोनेशिया है। यहां पर स्वत: ही शीतल चीनी का पेड़ उग आता है। लेकिन श्रीलंका और दक्षिण भारत में इसकी खेती की जाती है। इसकी खेती इसलिए की जाती है क्योंकि यह औषधि दृष्टिकोण से लाभ प्रदान करती है। इसके अलावा इसका अंतरराष्ट्रीय बाजार में मांग बहुत ज्यादा है। शीतलचीनी के पौधे की पत्ती देखने में पान की तरह लगते हैं। लेकिन पान एक झाड़िय पौधा है लेकिन शीतलचीनी एक उष्णकटिबंधीय पौधा है।

शीतलचीनी में पाए जाने वाला पोषक तत्व कौन -कौन सा है?

(1) मैग्नीशियम सल्फेट

(2) एल्मुनियम हाइड्रोक्साइड

(3) सोडियम कार्बोनेट

(4) डाइयुरेटिक्स

(5) anti-inflammatory

(6) एंटीपायरेटिक

(7) एंटीमाइक्रोबियल्स

शीतलचीनी के अन्य भाषाओं में नाम क्या-क्या है?

भाषानाम
अंग्रेजीकबब
हिंदीशीतलचीनी
कबाबचीनी
संस्कृतकन्कोल
मलयालमचीनीमूलक
तेलगूटोकामिरियालु
कन्नड़गन्धमेंसु

शीतलचीनी के सेवन के परिणामस्वरूप इस से होने वाले फायदे (Sheetal Chini ke Fayde) क्या – क्या है?

(1) दांत और मसूड़ों के लिए लाभप्रद है

शीतलचीनी में पाया जाने वाला एंटीबैक्टीरियल का गुण दांतों में दर्द और मसूड़ों में सूजन और खून रिसने की जो प्रॉब्लम होती है। उसे ठीक करता है। इसके अलावा दांतो को मजबूत भी करता है। दातों में पाए जाने वाला एनेमल प्रोटीन को भी स्ट्रांग बनाता है।

Sheetal Chini ke Fayde
A woman is smiling while being at the dentist

(2) बवासीर से निजात दिलाता है

बवासीर एक ऐसी प्रॉब्लम है जो मल के मार्ग में जलन उत्पन्न करता है। यदि इस जलन से छुटकारा पाना है तो प्रतिदिन शीतलचीनी के चूर्ण को एक कप दूध में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें। इससे आपकी बवासीर की प्रॉब्लम ठीक हो जाएगी और इसके अलावा भविष्य में आपको बवासीर फिर कभी नहीं होगी।

Sheetal Chini ke Fayde

(3) बलगम से छुटकारा दिलाता है

यदि किसी व्यक्ति को पुरानी खांसी की समस्या हो गई है। जिसके परिणाम स्वरूप खांसते समय बलगम भी आ जाता है तो इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। आप शीतलचीनी के चूर्ण को शहद में लगा करके सुबह, दोपहर, शाम में चाटे इससे बलगम की समस्या ठीक हो जाएगी।

(4) मुख की बीमारियों को ठीक करता है

मुह के अंदर छाले पड़ जाना और मुंह से दुर्गंध आना और इसके अलावा जीभ पर गंदगी जम जाना यदि इन सब से निजात पाना है तो इसके लिए आप शीतलचीनी को दिन में दो बार चबाइए इससे मुख से सम्बंधित जितने भी प्रॉब्लम उपर्युक्त वाक्यों में बताई गई है वह सब ठीक हो जाएगी।

Sheetal Chini ke Fayde
A woman coughing and covering her mouth with her hand
(5) स्वप्नदोष की भी प्रॉब्लम ठीक करता है

यदि शीतल चीनी के चूर्ण को दूध में मिलाकर के रात को सोते समय पिया जाए तो इससे स्वप्नदोष की प्रॉब्लम ठीक हो जाएगी। क्योंकि शीतल चीनी में पाए जाने वाला एंटी इन्फ्लेमेटरी तत्व शरीर से जरूरी टॉक्सिंस को बाहर निकालता है। जिससे शरीर में ऊर्जा का प्रवाह बना रहता है। जिसके परिणाम स्वरूप स्वप्नदोष जैसी बीमारी है ठीक हो जाती है।

शीतलचीनी के सेवन के पश्चात इससे होने वाले नुकसान क्या -क्या है?

शीतलचीनी की तासीर गर्म होती है। इसलिए इसका सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए। यदि शीतलचीनी का सेवन गर्भवती महिला को करना है तो डॉक्टर से विचार विमर्श करने के बाद ही सेवन करें और इसके अलावा जिस भी किसी व्यक्ति को एलर्जी की प्रॉब्लम है उसे भी शीतल चीनी का सेवन नहीं करना चाहिए और आयुर्वेदाचार्य के द्वारा बताए गए खुराक से ज्यादा अधिक इसका सेवन न करें अन्यथा पेट में दर्द और कब्ज की समस्या हो सकती है।

शीतल चीनी का सेवन कैसे करें?

(1) शीतलचीनी का सेवन तेल के रूप में किया जा सकता है इसका तेल शरीर के लिए बहुत ही गुणकारी है।

(2) शीतलचीनी का सेवन इसके सबुत दाने के रूप में किया जा सकता है।

(3) शीतल चीनी का सेवन पाउडर के रूप में किया जा सकता है जैसे यह किसी व्यक्ति को पेट की प्रॉब्लम है तो उसे पाउडर के रूप में ही सेवन करना चाहिए।

निष्कर्ष:

शीतलचीनी बवासीर और दांत के रोग और इसके अलावा मुंह के रोग से संबंधित रोगों को ठीक करने के लिए एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है।

FAQ:

(1) कबाब चीनी किस काम में आती है?

कबाब चीनी मुंह की दुर्गंध और सिर दर्द और बवासीर को ठीक करने के लिए काम में आती है।

(2) कबाब चीनी का भाव?

कबाब चीनी का भाव न्यूनतम 1100 रुपए से लेकर के 1500 रुपये तक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here