Rahul Gandhi targets Center: मंगलवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया जहां उन्होंने केंद्र सरकार पर धावा बोला। बता दें कि राहुल गांधी का कहना है कि कोरोना महामारी की तीसरी लहर ज़रूर आएगी और ऐसे में केंद्र सरकार को तैयारी शुरू करनी होगी।

इतना ही नहीं कांग्रेस संसद ने कोरोना को लेकर श्वेत पत्र जारी किया है और केंद्र सरकार से हुई गलती को सुधारने की मांग की है। राहुल का कहना है कि श्वेत पत्र के ज़रिये वह सरकार को रास्ता दिखाना चाहते हैं । उन्होंने आगे कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में 90 फीसदी मौतें केवल सुविधाओं के अभाव के कारण हुई थी।

राहुल गांधी ने मीडिया से कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को ले कर वैज्ञानिकों ने सरकार को पहले भी चेताया था, लेकिन केंद्र सरकार ने इस बात पर ध्यान केंद्रित नहीं किया। दूसरी लहर को संभालने में केंद्र सरकार असफल रही है। और उनकी लापरवाही के कारण लाखों लोगों की मौत हुई, और करोड़ों लोग कोरोना जैसी बीमारी से प्रभावित हुए। और अब तीसरी व चौथी लहर आने की भी संभावना है।

अब तो यह पूरा देश जानता है कि तीसरी लहर आनेवाली है, ऐसे में केंद्र सरकार को इसकी तैयारी पहले से ही करनी चाहिए। राहुल गांधी ने श्वेत पत्र को लेकर कहा कि इस पात्र में तीसरी लहर की तैयारी, साथ ही साथ दूसरी लहर की कमियां और गलतियां, Rahul Gandhi targets Center आर्थिक मदद और पीड़ित परिवारों को दिए जाने वाले मुआवजे की व्यवस्था के विषय में ज़िक्र किया गया है। राहुल गांधी चाहते हैं कि जब तीसरी लहर आए तो आम लोगों को ज़्यादा परेशानी न हो और जिन्होंने कोरोना के कारण अपने परिवारके सदस्यों को खोया है उन्हें मदद दी जाए।

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी बढ़ते कोरोना संक्रमण के विषय में मोदी सरकार की नीतियों के विरुद्ध लगातार निशाना साध रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर भी उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधने की कोशिश की थी। उन्होंने खास अंदाज़ में बिना किसी का नाम लिए केंद्र सरकार पर निशाना साधा था। बता दें कि राहुल ने ट्विटर पर हैशटैग के साथ लिखा था कि यह योग दिवस है न की इस दिवस के नाम पर छुपने का दिन।

सरकार पर 4 लाख की सहायता राशि न देने की वजह से उठ रहे हैं सवाल – Rahul Gandhi targets Center

राहुल गांधी ने बीते दिन कोरोना महामारी के वजह से मरने वाले लोगों के परिवारों को केंद्र द्वारा 4 लाख रुपये का मुआवजा देने वाली बात पर भी मोदी सरकार पर हमला किया। राहुल गांधी ने ट्वीट में लिखा कि किसी के जीवन की कीमत तय करना संभव नहीं है, हालांकि सरकारी मुआवज़े के ज़रिए छोटी सी मदद होती है, मगर मोदी सरकार इसे करने को भी तैयार नहीं। उन्होंने आगे लिखा था कि इलाज की कमी और फिर झूठे आंकड़े साथ में यह सरकार की क्रूरता।’

यह भी पढ़े: कांग्रेस को लगा एक और बड़ा झटका, सिंधिया के बाद यह करीबी नेता हो सकता है भाजपा में शामिल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here