पितृ पक्ष में पूर्वजो के आगमन का संकेत देती है घर की ये चीजे

0
810
Pitru Paksha

Pitru Paksha:- भाद्रपद महीने की पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 28 सितंबर से हो रहा है और अश्विनी माह की अमावस्या तिथि का अंत 14 अक्टूबर को हो रहा है। 28 सितंबर से लेकर के 14 अक्टूबर के बीच में पितृ पक्ष पड़ रहा है जो की लगातार 16 दिन तक चलता है। महाभारत के अनुसार पितृ पक्ष के अवसर पर यमराज पितरो को अपने बच्चों से मिलने के लिए धरती पर भेजते हैं और बच्चे इस पितृ पक्ष के अवसर पर अपने पितरों का श्राद्ध कर्म और तर्पण और पिंडदान करते हैं। लेकिन इन 16 दिनों तक चलने वाले पितृ पक्ष के अवसर पर पूर्वज अपने बच्चों के आसपास ही भटकते रहते हैं बस बच्चे को इन पांच संकेतों के माध्यम से यह जानना है कि उनके यहां उनके पूर्वज आ गए हैं। भागवत गीता के अनुसार आत्मा कभी मरती नहीं है बस वह नया शरीर धारण करती है इसीलिए जो हमारे पूर्वज है वह कभी नहीं मारते हैं वह सिर्फ नया शरीर धारण करते हैं।

पितृ पक्ष के दिनों में स्वर्ग से धरती पर आने का संकेत क्या है पूर्वजों का

(1) अचानक पीपल का पेड़ का उग जाना

पितृ पक्ष की इन 16 दिनों के दौरान जब आपके घर में अचानक से ही पीपल का पेड़ उगना शुरू हो जाए तो आप तुरंत सावधान हो जाइए क्योंकि स्वर्ग से आपके पूर्वज धरती पर आ चुके हैं।

(2) लाल चींटी का घर में आगमन

पितृ पक्ष के दौरान यदि आपके घर में लाल चीटियों का झुंड घूम रहा है तो आपको सतर्क हो जाना चाहिए क्योंकि आपके पूर्वज ऊपर से धरती पर आए हैं। तब आपको लाल चीटियों की सेवा करनी चाहिए जैसे आटा डालना चाहिए इससे पूर्वजों को शांति मिलेगी।

(3) तुलसी के पौधे का सूखना

पितृ पक्ष के दौरान यदि आपके गमले का तुलसी का पौधा सूखने लगा है तो इससे यह प्रमाणित होता है कि आपके पूर्वज तो ऊपर से आए ही हैं धरती पर लेकिन आपसे बहुत नाराज है इसके लिए तुलसी की पूजा अर्चना करें और गरीबों को दान करें तब जाकर के आपके पूर्वज आपसे खुश होंगे।

(4) काले कुत्ते का दिखना

पितृ पक्ष के इन 16 दिनों के दौरान आपको अचानक काला कुत्ता दिख जाए तो बहुत शुभ माना जाता है क्योंकि इससे यह साबित होता है कि आपके पूर्वज आपके पुण्य कर्मों से बहुत ही खुश हैं।

(5) घर में कौवे का आगमन

पितृ पक्ष की इन 16 दिनों के दौरान कौवे जब आपके द्वारा दिए गए भोजन को ग्रहण करते हैं तो इससे आपके पूर्वज बहुत ही खुश होते हैं क्योंकि वह धरती पर आकर के सब कुछ देख रहे हैं कि हमारे जो पुत्र हैं वह दान पुण्य के काम कर रहे हैं ।

Pitru Paksha

Pitru Paksha: निष्कर्ष

पितृ पक्ष के अवसर पर जब उपयुक्त संकेत आपको दिखाने लगे आप सावधान हो जाइए और निष्काम कर्म करिए जिससे आपके पूर्वज आपके कर्मों से खुश हो और आपको अपना आशीर्वाद दे।

Faq:

(1) पितरों के नाराज होने से क्या होता है

पितरों की नाराज होने से घर में संतान सुख की प्राप्ति में अड़चन आती है।

(2) पितृपक्ष में सांप देखने से क्या होता है?

पितृ पक्ष के दौरान यदि आपको सपने में सांप दिखता है तो यह आपके पूर्वजों का प्रसन्नता का सूचक होता है ।

(3) पितृ पक्ष अशुभ क्यों है?

पितृपक्ष अशुभ इसलिए है क्योंकि इस दौरान पूर्वजों का श्राद्ध कर्म और तर्पण और पिंडदान किया जाता है।

(4) पितृ पक्ष के दौरान क्या ना करें

पितृपक्ष के दौरान तामसिक भोजन नहीं करना है बाल नाखून नहीं काटना है और साथ ही साथ किसी को बलपूर्वक परेशान नहीं करना है।

(5) रूठे हुए पितरों को कैसे मनाए?

रूठे हुए पितरों को मनाने के लिए दान पुण्य का काम करें और हनुमान चालीसा का पाठ करें।

(6) साल 2023 में पितृपक्ष कब से स्टार्ट हो रहा है और कब अंत हो रहा है

साल 2023 में पितृपक्ष 28 सितंबर से प्रारंभ हो रहा है और 14 अक्टूबर को अंत हो रहा है।

(7) पितरों का दर्शन कैसे होता है?

पितरों का दर्शन उस व्यक्ति को होता है जिसका हृदय निर्मल गंगा की तरह स्वच्छ एवं पवित्र रहता है और साथ ही साथ जो गरीब व्यक्तियों को भोजन और कपड़े बांटता है।

(8) पितृ पक्ष में किसी की मृत्यु हो जाए तो क्या होता है?

पितृपक्ष में यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है वह सीधे स्वर्ग को प्राप्त होता है।

(9) कैसे पता चलेगा कि पितृ दोष है?

यदि आपके घर में गृह क्लेश है जैसे पति-पत्नी में झगड़ा और घर के सदस्यों में मानसिक अशान्ति का होना ये सब लक्षण पितृ दोष के हैं।

(10) पितरों के भगवान कौन है?

अर्यमा पितरों के भगवान है जो महर्षि कश्यप की पत्नी देवमाता अदिति की संतान है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here