शरीर के उपयोगी पोषण की खान है आयस्टर, खाने से मिलते हैं ये ज़बरदस्त फायदे

0
2756
oyster khane ke fayde

हम सब अपने भोजन में प्रोटीन और विटामिंस और मिनरल्स के रूप में कई पोषक तत्व को अपने भोजन में शामिल करते हैं जैसे कि प्रोटीन के लिए अंडे और विटामिन ए के लिए गाजर और विटामिन सी के लिए आंवला और नींबू। ऐसा हो जाए की सारे विटामिन प्रोटीन और विटामिन एक ही खड़ा खाद्य पदार्थ में पाए जाए तो कितना अच्छा रहता। अब आपको मैं ऐसा एक खाद्य पदार्थ के विषय में बताने जा रहा हूं। जिसमें प्रोटीन विटामिन और मिनरल्स बहुतायत में पाए जाते हैं। इस खाद्य पदार्थ का नाम है आयस्टर। आज हम इसी विषय में जानेंगे कि आयस्टर क्या है? और साथ ही साथ आयस्टर खाने के फायदे (Oyster Khane Ke Fayde) क्या हैं और आयस्टर के नुकसान क्या है? आयस्टर को कैसे खाएं? आदि जानकारी आपको इस लेख में दी जाएगी बस आप इस पूरे लेख को पढियेगा।

आयस्टर क्या होता है? (Oyster Kya Hota Hai)

आयस्टर एक सीफूड है अर्थात समुद्री भोजन है जिसका अर्थ होता है सीप आस्त्रिडाय प्रजाति का है। भारत में इसकी कुल 6 प्रजातियां पाई जाती है। यह 6 प्रजातियां केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और गोवा में पाई जाती है।

आयस्टर में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं? (Oyster Me Kon Kon Se Poshak Tatva Hai)

आयस्टर में निम्नलिखित पोषक तत्व पाए जाते हैं

(1) सोडियम

(2) आयरन

(3) मैग्नीशियम

(4) जिंक

(5) कॉपर

(6) प्रोटीन

(7) फैट

(8) कार्बोहाइड्रेट

(9) थायमिन

(10) नियासिन

(11) विटामिन बी – 6

(12) फोलेट

(13) कोलिन

(14) फैटी एसिड सैचुरेटेड

(15) फैटी एसिड अनसैचुरेटेड

आयस्टर को खाने की विधि क्या है? (Oyster Ko Khane Ka Tarika | Vidhi)

आयस्टर को यदि आप अपने भोजन में शामिल करना चाहते हैं तो आयस्टर का मीट बना कर भी शामिल कर सकते हैं। यदि आपको इसका मीट अच्छा नहीं लगता है तब आप इसको पास्ता या रोस्ट करके या उबालकर के भी खा सकते हैं। ध्यान देने योग्य बात यह है कि इसकी तासीर गर्म होती है। इसलिए गर्मी में ज्यादा इसका सेवन करना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इसलिए आप इसका सेवन ठंड के मौसम में कर सकते हैं।

यदि आप आयस्टर को अपने भोजन में शामिल करते हैं तो इससे आपके शरीर को क्या लाभ मिलेगा?

आयस्टर खाने के फायदे (Oyster Khane Ke Fayde)

(1) हार्ट को रखेगा तन्दरुस्त (Oyster Heart Ko Tandurust Rakhta Hai)

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन के अनुसार आयस्टर में ओमेगा -3 फैटी एसिड आयल पाया जाता है। जो हृदय की बीमारियों को दूर करके हृदय को स्वस्थ बनाता है। और साथ ही साथ यह ब्लड वेसल्स को  स्ट्रांग करता है ।जिससे हमारे शरीर का रक्त परिसंचरण आसानी से हो सके अर्थात यदि एक शब्दों में कहा जाए तो यह खून का प्यूरिफिकेशन भी करता है। जिससे हमारे शरीर में कोई बीमारी ना हो।

(2) शुगर को कंट्रोल रखने में सहायक (Oyster Sugar Control Karta Hai)

यदि आप अपने आहार में आयस्टर को शामिल करते हैं तब यह आपके मधुमेह रोग को दूर करेगा अर्थात शुगर को कंट्रोल रखेगा। क्योंकि आयस्टर में भरपूर मात्रा में जिंक पाया जाता है। जिंक का  कार्य होता है कि जो शरीर में इंसुलिन स्रावित होता है। इंसुलिन के स्रावण  के कार्य प्रणाली को दुरुस्त करता है अर्थात संतुलित रखता है जिससे शुगर कंट्रोल रहता है।

(3) मेटाबॉलिज्म को बूस्ट भी करता है (Oyster Metabolism Boost Karta Hai)

आयस्टर को एक सुपरफूड की संज्ञा दी जाती है। क्योंकि इसमें प्रोटीन ,विटामिन और मिनरल पाए जाते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप हमारे शरीर में जो भी बीमारियां होती है उनको दूर करता है। और दूर करने का प्रयास भी करता है। और साथ ही साथ यह हमारे शरीर के मेटाबॉलिज्म को भी बूस्ट करता है ।जिससे हमारा शरीर कई रोगों से मुक्त हो जाता है। और हमें कब्ज गैस की समस्या नहीं रहती है। और साथ ही साथ अल्जाइमर और अर्थराइटिस की भी समस्या खत्म हो जाती है। और हमारे नर्वस सिस्टम को भी स्ट्रांग करता है। और इसमें लाल रक्त कणिकाएं भी पाई जाती है ।

(4) कोलेस्ट्रॉल लेबल को संतुलित रखता है (Oyster Cholesterol Level Ko Santulit Karta Hai)

आयस्टर में पाया जाने वाला हाइपोलिपिडेमिक नामक तत्व हमारे शरीर के कोलेस्ट्रॉल लेवल को संतुलित रखता है। जिसके परिणाम स्वरूप हमारे शरीर में रक्त परिसंचरण बिना किसी अवरोध के होता है और हमारा शरीर पूरा स्वस्थ रहता है।

(5) ओमेगा 3 फैटी एसिड का सबसे बड़ा स्रोत (Oyster Omega 3 Fatty Acid Ka Srota Hai)

ओमेगा 3 फैटी एसिड का सबसे बड़ा स्रोत है। ओमेगा 3 फैटी एसिड मछली में पाया जाता है। और साथ ही साथ आयस्टर में भी पाया जाता है ।आयस्टर के अलावा बादाम में भी ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है। ओमेगा 3 फैटी एसिड हमारे लिवर को स्ट्रांग करता है। और साथ ही साथ नवजात शिशु के लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड बहुत ही लाभदायक है।

(6) वेट लॉस करने में भी सहायक है (Oyster Weight Loss Me Sahayak Hai)

आयस्टर में प्रोटीन और साथ ही साथ सूक्ष्म पोषक तत्व की अधिकता के कारण यह हमारे वेट लॉस में भी सहायक है। क्योंकि इसमें कैलोरी कम पाई जाती है। और प्रोटीन ,विटामिंस, मिनरल्स ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं। जिसके सेवन से आपका वजन नियंत्रित रहेगा और आप मोटापा के खतरे से बच भी जाएंगे।

(7)आयरन की अधिकता (Oyster Me Iron Ki Adhiktam Hoti Hai)

आयस्टर में आयरन नामक मिनरल्स की अधिकता होती है ।आयरन का हमारे शरीर में कार्य यह होता है कि हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन के उत्पादन में अपनी अहम भूमिका निभाता है ।यदि शरीर में आयरन की कमी हो तो एनीमिया के रोगी को सांस लेने में बड़ी प्रॉब्लम होती है।

(8) प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है (Oyster Pratiraksha Pranali Ko Majbut Banata Hai)

आयस्टर में ऐसे खनिज तत्व पाए जाते हैं जो हमारे प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाते हैं अर्थात रोग प्रतिरोधक क्षमता को स्ट्रांग करते हैं।

आयस्टर के सेवन से नुकसान क्या होता है ,हमारे शरीर के लिए

आयस्टर में विब्रियो व्लनिक्स और बीबियों पैराहामोलिटिकत नामक बैक्टीरिया पाया जाता है के परिणाम स्वरूप यह हमारे शरीर को बहुत बड़ी मात्रा में नुकसान पहुंचाता है अर्थात हमें वॉमिटिंग की समस्या हो सकती है।

ये भी पढ़े: अगर आप भी पनीर के दीवाने हैं तो यह पनीर दो प्याज़ा की रेसिपी ज़रूर ट्राई करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here