On-Page SEO क्या है और कैसे करें

0
926
On-Page SEO

On-Page SEO Kya Hai:- सन 2014 के बाद से जब से हिंदी ब्लॉग वेबसाइट को गूगल ने मोनीटाइज किया है तब से भारत में लाखों की संख्या में हिंदी ब्लॉग वेबसाइट पब्लिश की जा रही है। इन वेबसाइटों में एंटरटेनमेंट न्यूज़ और हेल्थ से रिलेटेड कंटेंट टॉप 10 पे रहते हैं। बहुत सारे कंटेंट राइटर, ब्लॉगर अपनी वेबसाइट वर्ड प्रेस या ब्लॉगर के माध्यम से पब्लिश करते हैं लेकिन उनकी वेबसाइट पर जब कोई ट्रैफिक नहीं आता तो वह निराश होकर वेबसाइट पर काम करना छोड़ देते हैं। जानते हैं इसका कारण क्या है कंटेंट को सही सही तरीके से अप्टिमाइज नहीं करना।ऑप्टिमाइज़ करने के लिए On-Page SEO अनिवार्य है।

आइए जानते हैं कि On-Page SEO होता क्या है?

On-Page SEO गूगल का एक एल्गोरिथ्म है अर्थात आप जो कंटेंट लिख रहे हैं वह कंटेंट गूगल कर सके इसके लिए जरूरी है कि आपका कंटेंट ऑप्टिमाइज़ किया हुआ हो और आपका कंटेंट seo friendly content हो और साथ ही साथ आपका कंटेंट 100 परसेंट यूनिक हो यदि आपको अपने कंटेंट को गूगल के सर्च बार के फर्स्ट पेज में रैंकिंग कराना है इसके लिए आपको On-Page SEO आना चाहिए।

On-Page SEO की आवश्यकता क्यों है?

(1) On-Page SEO करने की आवश्यकता इसलिए होती है जिससे आपका ब्लॉग कंटेंट गूगल पर सर्च बार में पहले रैंक में शो कर सके।

(2) On-Page SEO करने की आवश्यकता इसलिए होती है जिससे आपके ब्लॉग वेबसाइट पर लाखों की ट्रैफिक आ सके।

(3)On-Page SEO करने की आवश्यकता इसलिए होती है जिससे आपका ब्लॉग वेबसाइट हाईलाइट हो सके और साथ ही साथ व्यूअर को एक विश्वशनीय जानकारी प्राप्त हो सके।

(4)On-Page SEO करने की आवश्यकता इसलिए भी होती है जिससे आपका ब्लॉग वेबसाइट दूसरी ब्लॉगर से कम्पटीट कर पाए।

On-Page SEO करने की प्रक्रिया क्या है और कैसे करें?

(1) Keywords research-

ब्लॉग कंटेंट को लिखने से पहले आपको सबसे पहले कीवर्ड रिसर्च करना होगा अर्थात कौन सा कीवर्ड प्रेजेंट टाइम में ट्रेंड कर रहा है उसी कीवर्ड को आपको टारगेट करना है।

(2)Title Tags

टाइटल टैग आपका सौ परसेंट यूनिक होना चाहिए। ध्यान देने वाली बात यह है कि जब भी आप टाइटल टैग लिखें उसमें 65 करैक्टर से अधिक नहीं होना चाहिए।

(3) Heading

कंटेंट को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के अनुरूप लिखने के लिए हेडिंग को हमेशा h1 फॉर्मेट में लिखें और सब हेडिंग h2 और h3 फॉर्मेट में लिख सकते हैं।

(4)Meta Description

मेटा डिस्क्रिप्शन सबसे कंपलसरी On-Page SEO का भाग है क्योंकि इसके बिना आपका कंटेंट ट्रेंड भी नहीं कर पाएगा, आपको बता दें मेटा डिस्क्रिप्शन के माध्यम से आप व्यूअर को यह बता सकते हैं कि संक्षिप्त रूप में आपका कांटेक्ट किस कैटेगरी का है और साथ ही साथ आप क्या बताना चाहते हैं इसमें मुख्यता किस कीवर्ड को टारगेट करना चाहते है।

(5)URL Structure

यूआरएल स्ट्रक्चर के माध्यम से गूगल सर्च इंजन को यह समझने में आसानी होती है कि आपका कंटेंट से किस प्रकार की जानकारी प्राप्त होती है। इसीलिए यूआरएल स्ट्रक्चर को यूजर फ्रेंडली रखना चाहिए। यूआरएल स्ट्रक्चर को परमालिंक के नाम से भी जाना जाता है।

(6) Keywords Density

कीवर्ड डेंसिटी मतलब यह है कि आप अपने ब्लॉग पोस्ट में टारगेट कीवर्ड का कितनी बार यूज कर रहे हैं। गूगल एल्गोरिदम कहता है कि एक सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कंटेंट में कीवर्ड डेंसिटी मिनिमम 1% से लेकर के मैक्सिमम 2% तक होना चाहिए।

(7) Website speed

ब्लॉग वेबसाइट की वेबसाइट स्पीड अच्छी होनी चाहिए उसे लोड होने में कम से कम समय लेना चाहिए क्योंकि यदि वेबसाइट को लोड होने में ज्यादा समय लगेगा तो व्यूअर उस वेबसाइट को छोड़ करके दूसरी वेबसाइट पर विजिट करने लगेगा। वेबसाइट स्पीड को ठीक करने के लिए आप सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के अनुकूल टेंप्लेट इंस्टॉल करें।

(8) Mobile Friendly Website

आपकी वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली वेबसाइट होनी चाहिए क्योंकि ज्यादातर व्यूवर मोबाइल में ही कंटेंट पढ़ते है।

(9) Quality content

क्वालिटी कंटेंट से मतलब यह होना चाहिए कि आपके कंटेंट में 0% प्लेगेरिज्म होना चाहिए और साथ ही साथ आप अपने कंटेंट को बिना खिचड़ी बनाए सीधे उसके मुख्य पहलुओं पर बात कर रहे हैं।

(10) Interlinking

इंटरलिंकिंग On-Page SEO का इंपॉर्टेंट पार्ट है। इंटरलिंकिंग के माध्यम से दो या दो से अधिक वेब पेज को आपस में कनेक्ट किया जाता है। इंटरलिंकिंग के माध्यम से आप अपने अन्य पोस्ट को भी वायरल कर सकते हैं।

On-Page SEO kya hai
निष्कर्ष

On-Page SEO Kya Hai:- On-Page SEO के माध्यम से आप अपनी वेबसाइट को लाखों-करोड़ों व्यूअर के पास पहुंचा सकते हैं। इसके लिए आपको On-Page SEO करना आना चाहिए।

Faq:
(1)On-Page SEO क्या है?

On-Page SEO एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से हम अपनी वेबसाइट को इस प्रकार से ऑप्टिमाइज़ करते हैं। जिससे हमारी वेबसाइट ज्यादा लोगों के पास पहुंच सके और साथ ही साथ लाखों की संख्या में ट्रैफिक प्राप्त कर सकें।

(2) SEO का पूरा नाम

SEO का पूरा नाम Search Engine Optimization है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here