णमोकार मंत्र जाप करने के फायदे

0
705
Omkar Mantra Jaap Karne Ke Fayde

Omkar Mantra Jaap Karne Ke Fayde: णमोकार मंत्र जैन धर्म से संबंधित मन्त्र है। जैन धर्म के अनुयायी अपने सांसारिक जीवन में दुखों से मुक्ति के लिए इस मंत्र का जाप करते हैं। इतना ही नहीं इस मंत्र का जाप जैन धर्म को मानने वाले अनुयायियों के अलावा अन्य धर्म को मानने वाले अनुवाई भी इसका जाप करके इसका लाभ उठा सकते हैं। यह मंत्र आपके इहलौकिक दुखों को दूर करके आपके जीवन में सुखों का बीजारोपण करता है। आप अपने जीवन में इस मंत्र के माध्यम से सदाचार, परोपकार, करुणा और ब्रह्मचर्य के गुणों को अपना सकते हैं। इस मंत्र के जाप मात्र से ही मन बहुत प्रसन्न हो जाता है। आपके अंदर काम, क्रोध, लोभ, मोह, माया की भावना तिरोहित हो जाती है। आपके अंदर सिर्फ ज्ञान बचता है। जिससे आप हर परिस्थिति में अपने सुंदर आचरण से आसपास के लोगों को खुश करके अपने जीवन में सबको अपने साथ ले चलने की भावना आपके अंदर सन्निहित हो जाएगी।

आइए जानते हैं कि णमोकार मंत्र का इतिहास क्या है?-

णमोकार मंत्र का इतिहास के विषय में बात करेंगे तो इसका इतिहास बहुत पुराना है आप सबसे पहले जाने कि णमोकार मंत्र एक अनादि निधन मंत्र है जो प्राकृत भाषा में लिखा गया है। णमोकार मंत्र की जानकारी हमें सबसे पहले आचार्य पुष्पदंत भूतबली द्वारा लिखित षटखंडागम नामक पुस्तक में मिलती है। णमोकार मंत्र की एक विशेषता यह है कि इस मंत्र से 84,00,000 मंत्रों की उत्पत्ति हुई है और इसके अलावा इस मंत्र को 18,432 तरीके से लिख और बोल सकते हैं।

Omkar Mantra Jaap Karne Ke Fayde:- णमोकार मंत्र का अन्य नाम क्या है?-

(1)बीज मंत्र

(2)महामन्त्र

(3)नमस्कार मन्त्र 

(4)नवकार मन्त्र

(5)पंच मंगल

(6)सनातन मन्त्र

(7)मंगल सूत्र

णमोकार मंत्र का अर्थ क्या है?-

नमो अरिहंताणम 

नमो सिद्धाणं

नमो आयरियाणं

नमो उवज्जायाणम

नमो लोए सव्व साहूणम

एसो पंच नमुक्कारो

सव्व पावप्पणासणों

मंगलाणम च सव्वेसिं

पढमं हवई मंगलं

णमोकार मंत्र का अर्थ यह है कि अपने अंदर के काम क्रोध, लोभ, मोह नाम का जो शत्रु है उसका नाश करने पर मैं नमस्कार करता हूं और इसके अलावा सिद्ध पुरुष अर्थात जिन्होंने अपने ज्ञान इंद्रियों पर विजय प्राप्त कर ली है, उनको भी नमस्कार करता हूं, अर्थात जिन गुरु के सानिध्य में हमने अपने अंदर के अहंकार को दूर करके ज्ञान की ओर उन्मुख हुए हैं ऐसे गुरु को भी नमस्कार करता हूं और उपाध्यायो को भी नमस्कार करता हूं, साधुओं को भी नमस्कार और मेरी सभी पापों का नाश हो और सभी मंगल में यह प्रथम मंगल है।

णमोकार मंत्र का जाप करने की विधि क्या है?-

(1) णमोकार मंत्र का जाप करने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि इस मंत्र को जाप करते वक्त आपके मुख की दिशा पूर्व की ओर या उत्तर की ओर होना अनिवार्य है।

(2) सुखासन की मुद्रा में किसी चटाई या दरी पर बैठ जाइए।

(3) णमोकार मंत्र का जाप करने से पहले अपने मन में से काम, क्रोध, लोभ, मोह, माया की भावना तो अपने आप से दूर करके रखें।

(4) इस मंत्र का जाप आप सुबह के समय या शाम के समय भी कर सकते हैं।

णमोकार मंत्र के जाप करने के फायदे कौन-कौन से होते हैं?-

(1) इस मंत्र को जाप करने पर सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इससे आपके पापों का क्षय होता है अर्थात आपने पूर्व जन्म में जो कर्म किए थे और आपको वर्तमान में उन कर्मों का जो फल मिल रहा है उससे आपको मुक्ति मिलती है और साथ ही साथ यदि आप वर्तमान में कोई गलत कर्म कर रहे हैं तो उसकी सजा आपको भविष्य में मिलेगी। अगले जन्म में भी आपकी रक्षा करता है। णमोकार मंत्र यह आपके वर्तमान में सभी पापों को नष्ट कर देता है और आपको पाप रहित बना देता है।

(2) यदि आपको मृत्यु से भय लगता है तो णमोकार मंत्र जाप करने के बाद आपको मृत्यु से कभी भी भय नहीं लगेगा ये भी कहा जाता है कि जो व्यक्ति णमोकार मंत्र का जाप प्रतिदिन करता है उसके जीवन में जो मृत्यु पास है वह दूर हो जाता है।

(3) णमोकार मंत्र जाप करने से आपके लिए व्यापार के बहुत सारे दरवाजे खुल जाते हैं अर्थात यह एक शब्दों में कहा जाए तो आपके व्यापार में उन्नति होने लगती है।

(4) यदि आपको रात को सोते समय नींद नहीं आती है और रात भर करवटें बदलते रहते हैं कि नींद आ जाए। लेकिन फिर भी नींद नहीं आती है तो इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है आपको सोने से पहले णमोकार मंत्र का जाप कर लेना है। इससे आपकी नींद गहरी हो जाएगी और आप सुबह अपने आप को तरोताजा महसूस करेंगे।

निष्कर्ष:

Omkar Mantra Jaap Karne Ke Fayde: प्राकृत भाषा में लिखित णमोकार मंत्र शरीर की शुद्धि के साथ यह मन को भी पवित्र करता है। आप जो भी कार्य कर रहे हैं उन कार्यों में पवित्रता की भावना आ जाती है इसलिए णमोकार मंत्र सभी मंत्रों में सर्वश्रेष्ठ मंत्र है।

Faq:

(1) णमोकारमंत्र का जाप 108 क्या होता है?

णमोकार मंत्र के जाप से आपका मन प्रसन्न हो जाता है और आपके अंदर जो क्रोध की भावना है वह दूर हो जाती है।

(2) णमोकार मंत्र शक्तिशाली है

णमोकार मंत्र एक शक्तिशाली मंत्र है शक्तिशाली इसलिए है क्योंकि इस मंत्र के जाप से सभी सिद्ध संतों के फल आपको मिल जाते हैं।

(3) णमोकार मंत्र कितनी देर तक जाप करनी चाहिए

णमोकार मंत्र का जाप 108 बार तक करना चाहिए।

(4) णमोकार मंत्र के रचयिता कौन है?

णमोकार मंत्र के रचयिता कोई भी नहीं है इस मंत्र को प्राचीन काल से जैन धर्म के साधु जाप करते चले आ रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here