रूखे और बेजान बालों को सिल्की और शाइनी बनाने में कारगर केराटिन ट्रीटमेंट

0
2075
Keratin Treatment in Hindi

Keratin Treatment in Hindi: लम्बे और लहराते बाल देखने में कितना सुंदर सा प्रतीत होता है। लेकिन हमारी गलत दिनचर्या के कारण हमारे बाल समय से पहले झड़ने और टूटने लगे हैं। यदि सिर पर बाल बचे भी हैं तो वह बाल ड्राई, रूखा, फ्रिजी है। सिर पर बाल को देखने से ऐसे लगता है कि बाल में कोई जान है ही नहीं जैसे कि बालों को पोषक तत्व कोई मिलता ही नहीं है। एक सर्वे के मुताबिक हर 10 महिला में से 4 महिला के बाल प्राकृतिक रूप से शाइन नहीं करते हैं, जिससे वह महिला अपने बालों को लेकर काफी परेशान हो जाती है और बालों के उपचार के लिए घरेलू नुस्खे आजमाती है लेकिन परिणाम शून्य होता है। इसका कारण है कि बालों के लिए एक प्रोटीन की आवश्यकता होती है जिसका नाम केराटिन प्रोटीन है।यह केराटिन प्रोटीन हमारे नाखून और बालों की ऊपरी परत में पाया जाता है। जो बालों को प्राकृतिक रूप से चमकीला और इसके अलावा जड़ से मजबूत, घना और लंबा करता है। आज हम इसी बात पर चर्चा करने वाले हैं कि केराटिन ट्रीटमेंट क्या होता है? जिससे कोई भी महिला अपने रूखे और बेजान बाल को घना और चमकदार और लम्बा कर सके। बाल स्त्री की सुंदरता का सबसे अहम हिस्सा है । स्त्री की सुंदरता का मानक बाल ही है क्योंकि प्राचीन काल में पतंजलि ने भी केशवती स्त्री की सुंदरता की खूब तारीफ की है। जिस सुंदर स्त्री के केस बहुत लंबे होते हैं वह स्त्री अत्यंत सुंदर सी प्रतीत होती है। उसकी ओर पुरूष जल्दी आकर्षित होते हैं। ध्यातव्य है कि कौन बनेगा करोड़पति के शो में अमिताभ बच्चन ने खुलासा किया कि उन्होंने जया बच्चन से शादी इसलिए किया क्योंकि जया बच्चन के बाल लंबे, चमकदार और घने थे।

बालों को साइन और घनापन बनाने वाला केराटिन ट्रीटमेंट क्या होता है?

Keratin Treatment in Hindi: केराटिन ट्रीटमेंट के माध्यम से प्रभावित महिला या पुरुष के सिर में आर्टिफिशियल केराटिन प्रोटीन डाला जाता है इससे पुनः बालों में जो प्राकृतिक केराटिन प्रोटीन का ह्रास हुआ था उसे फिर से रिस्टोर करता है। जिसके परिणाम स्वरूप हमारे बाल सिल्की शाइनी लगने लगते हैं। केराटिन ट्रीटमेंट कराने के पश्चात हमारे बाल टूटने कम हो जाते हैं और बालों की खूबसूरती बढ़ जाती है जिससे हमारे व्यक्तित्व में एक अलग आत्मविश्वास दिखने लगता है।

keratin treatment for hair in hindi

केराटिन ट्रीटमेंट की आवश्यकता क्यों होती है?

(1) केराटिन ट्रीटमेंट की आवश्यकता इसलिए होती है क्योंकि हमारा लाइफस्टाइल परिवर्तित हो चुका है ना हम समय से खाते हैं और ना हम समय से उठते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप हमारा शरीर अस्वस्थ हो जाता है स्वस्थ शरीर के साथ हमारे बाल भी अस्वस्थ हो जाते हैं।

(2) नए-नए ब्रांड के शैंपू का उपयोग करना जिससे हमारे बालों से प्राकृतिक केराटिन प्रोटीन का ह्रास हो जाता है और हमारे बाल बेजान बन जाते हैं और बालों में डैंड्रफ और इसके अलावा बाल फ्रिजी और ड्राई हो जाते हैं।

(3) फास्ट फूड का सेवन करना भी यह हमारे प्राकृतिक केराटिन प्रोटीन को ह्रास करने का सर्व प्रमुख कारण है आयुर्वेद के अनुसार तले हुए पदार्थ का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से शरीर में वात ,पित्त और कफ का संतुलन बिगड़ जाता है।

(4) खारा पानी या हीट वाटर से भी प्राकृतिक केराटिन प्रोटीन का हराश बहुत तीव्र गति से होता है जिससे हमारे बाल बहुत तेजी से झड़ने लगते हैं।

केराटिन ट्रीटमेंट से हमारे बालों को क्या-क्या लाभ होता है?

(1) केराटिन ट्रीटमेंट करवाने से सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि इससे बालों का स्मूथनेस बढ़ जाता है।

(2) केराटिन ट्रीटमेंट करवाने के बाद हमारे बाल सिल्की और शाइनी दिखने लगते हैं।

(3) इसका एक और सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि इससे हमारे बाल स्ट्रेट हो जाते हैं। आप अपने मनपसंद अनुसार हेयर स्टाइल बना सकते हैं।

(4) यह बालों को सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाती है और साथ ही साथ धूल से भी हमारे बालों की रक्षा करती है।

(5) हमारे बाल जड़ से मजबूत हो जाते हैं जिसके परिणाम स्वरूप कंघी करने से यदि जहां 10 बाल टूटते थे अब वहां एक बाल भी नहीं टूटेंगे।

केराटिन ट्रीटमेंट कराने से बालों को क्या-क्या हानि होता है?

(1) केराटिन ट्रीटमेंट कराने के पश्चात एक समस्या सबसे बड़ी होती है कि बाल ऑयली और ग्रीसी हो जाते हैं।

(2) बाल स्ट्रेट होने के कारण देखने से ऐसे पता चलता है जैसे बालों की डेंसिटी ही कम हो गई है।

(3) केराटिन ट्रीटमेंट के बाद आप अपने मनपसंद प्रोडक्ट का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। आप जो भी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहते हैं। इसका इस्तेमाल करने से पहले डर्मेटोलॉजिस्ट से सलाह लेना पड़ेगा।

(4) केराटिन ट्रीटमेंट कराने के पश्चात आपको कुछ दिनों तक अपने बालों को धोना नहीं है अर्थात आपको अपने बालों पर पानी की एक बूंद भी नहीं डालना है।

(5) केराटिन ट्रीटमेंट कराने के पश्चात स्किन एलर्जी भी हो सकती है ऐसा कई केस में देखा गया है।

(6) केराटिन ट्रीटमेंट कराने के पश्चात आपके बाल सिर्फ 4 महीने से लेकर के लगभग 6 महीने तक ही साइन और सिल्की रहेंगे। तदोपरांत फिर से आपके बाल ड्राई और बेजान हो जाएंगे। यदि एक शब्दों में कहा जाए कि केराटिन ट्रीटमेंट कराने में बहुत ज्यादा पैसा लगता है यह अल्पकालिक समस्या का निदान है ना कि दीर्घकालिक।

निष्कर्ष:

केराटिन ट्रीटमेंट कराने के पश्चात 4 महीने से लेकर के लगभग 6 महीने तक हमारे बाल सिल्की, शाइनी और मजबूत हो जाते हैं। हालांकि इसके साथ स्किन एलर्जी और बाल आयलि और ग्रीसी हो जाते हैं।

Keratin hair treatment in hindi

FAQ:

(1) केराटिन ट्रीटमेंट से क्या होता है?

केराटिन ट्रीटमेंट से हमारे बाल मुलायम, चमकदार और घने हो जाते हैं।

(2) केराटिन ट्रीटमेंट का प्रभाव हमारे बालों पर कितने महीने तक रहता है?

केराटिन ट्रीटमेंट का प्रभाव हमारे बालों पर 4 महीने से लेकर के 6 महीने तक रहता है।

(3) क्या बाल केराटिन ट्रीटमेंट के बाद सीधे हो जाते हैं?

केराटिन ट्रीटमेंट के बाद हमारे बाल स्ट्रीट हो जाते हैं आप अपने मन मुताबिक हेयर स्टाइल बना सकते हैं।

(4) केराटिन ट्रीटमेंट कराने में कितना पैसा लगता है?

केराटिन ट्रीटमेंट कराने में न्यूनतम ₹2000 से लेकर के अधिकतम ₹50000 तक लगता है। यह निर्भर करता है कि केराटिन ट्रीटमेंट करने वाले व्यक्ति का एक्सपीरियंस कितने वर्षों का है और इसके अलावा कस्टमर की रेटिंग क्या है और साथ ही साथ उसके सैलून का सेटअप कैसा है? इन सब बातों से मूल्य का निर्धारण किया जाता है।

(5) केराटिन प्रोटीन हमारे शरीर के कौन-कौन से भागों में पाया जाता है?

केराटिन प्रोटीन हमारे शरीर के बाल और नाखूनों में पाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here