क्रिकेट वर्ल्ड कप 1983 के हीरो कपिल देव, जानिए उनके करियर और विशेषता के बारे में

0
3355
Kapil Dev

भारत में बहुत सारे क्रिकेटर आए हैं और गए हैं। लेकिन कपिल देव (Kapil Dev) जैसा क्रिकेटर कोई नहीं हुआ है। वह अपने प्रतिभा के बलबूते 1983 की वर्ल्ड कप में भारत को विजय दिलाई क्योंकि उनकी कप्तानी में ही ऐसा संभव हो पाया क्योंकि वह एक ऑल राउंडर क्रिकेटर थे जो बैट और बॉल दोनों से कमाल करते थे। 

कपिल देव कौन है? (Kapil Dev Kon Hai)

कपिल देव एक भूतपूर्व इंडियन क्रिकेटर है। जिन्होंने 1978 से लेकर 1994 तक भारत के लिए क्रिकेट खेला, वह भी दोनों फॉर्मेट में टेस्ट में भी और वनडे में भी। और साथ ही साथ उन्होंने 1983 में अपनी कप्तानी में भारत को वर्ल्ड कप भी दिलाई और 1999 से सन 2000 तक वह भारतीय टीम के कोच भी थे। कपिल देव का जन्म 6 जनवरी 1959 को पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में हुआ था।

Kapil Dev Kon Hai

कपिल देव के माता – पिता का क्या नाम है? (Kapil Dev Ke Maa Ka Naam | Papa)

कपिल देव की माता का नाम राजकुमारी लाजवंती था। और पिता का नाम रामलाल निखंज था। कपिल देव के पिता जी एक प्रसिद्ध लकड़ी व्यापारी थे। और साथ ही साथ माता हाउसवाइफ थी ।कपिल देव की चार बहन और दो भाई थे ।

कपिल देव की वाइफ का नाम क्या है? (Kapil Dev Ki Wife Ka Naam Kya Hai)

कपिल देव की पत्नी का नाम रोमी भाटिया था जो पेशे से एक उद्यमी महिला थी। कपिल देव ने रोमी भाटिया से सन 1980 में शादी की थी। कपिल देव और रोमी भाटिया की एक बच्ची है जिसका नाम है अमिय देवी। अमिय देवी का जन्म 1996 में हुआ था। रोमी भाटिया एक बेहद सुंदर उद्यमी महिला हैं। उनके सुंदरता के सामने हिना खान और शहनाज गिल जैसी अच्छे – अच्छे टेलीविजन एक्ट्रेस नहीं टिक पाती हैं।

कपिल देव की शिक्षा कहाँ से हुई थी? (Kapil Dev Ki Shiksha Kahan Hui Thi)

कपिल देव एक औसत दर्जे के विद्यार्थी थे। उनका मन पढ़ाई में नहीं लगता था।उनका मन ज्यादा खेलकूद में लगता था। उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई” डीएवी सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर 8- सी, चंडीगढ़” से की है उसके बाद भारत के पूर्व पूर्व क्रिकेटर देश प्रेम आजाद के नेतृत्व में क्रिकेट सीखने लगे।

कपिल देव का क्रिकेट कैरियर कैसा है? (Kapil Dev Ka Cricket Career Kaisa Hai)

(1) कपिल देव का क्रिकेट करियर सन 1974 से स्टार्ट हुआ ।उन्होंने पहला क्रिकेट अपने स्टेट हरियाणा के लिए खेला ।जहां उन्होंने 39 रन देकर 6 विकेट झटके वह भी पंजाब के विरुद्ध।

(2) 16 अक्टूबर 1978 को पाकिस्तान के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया। गौरतलब है कि वह इतना अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए जितना उम्मीद की जा रही थी। लेकिन अपने बाउंसर से पाकिस्तानी बल्लेबाजों को चौका दिया था।

(3) 1 अक्टूबर 1978 को कपिल देव ने अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय क्रिकेट में पाकिस्तान के विरुद्ध पदार्पण किया हालांकि शुरुआती दिनों में उनका परफॉर्मेंस अच्छा नहीं था।

(4) कपिल देव ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपना पहला टेस्ट शतक भी बनाया। जिसमें उन्होंने 124 गेंदों पर 126 रन बनाया और ध्यान देने योग्य बात यह भी है उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज शतक भी लगाया जहां उन्होंने 33 गेंदों का सामना किया और 50 रन बनाया।

(5) बतौर कप्तान रहते हुए सन 1983 में कपिल देव ने जिंबाब्वे के खिलाफ एक मैच में 138 गेंदों पर 175 रन बनाया। इस मैच में उनके शानदार प्रदर्शन के लिये मैन ऑफ द मैच चुना गया। कपिल देव ने 1983 के वर्ल्ड कप के 8 मैचों में 303 रन बनाए और 12 विकेट लिए ध्यान देने योग्य बात यह है कि 1983 की वर्ल्ड कप में भारत ने महज 183 रन बनाए थे। लेकिन कपिल देव की शानदार प्रदर्शन और साथ ही साथ मोहिंदर अमरनाथ के अच्छी गेंदबाजी वजह से वेस्टइंडीज को 140 रनों पर रोक दिया। और इस तरह भारत ने 1983 का वर्ल्ड कप जीत लिया था।

कपिल देव की विशेषता क्या थी? (Kapil Dev Ki Visheshta Kya Thi)

(1) टेस्ट क्रिकेट में कपिल देव ने सन 1994 में रिचर्ड हैडली के 433 विकेट के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए दुनिया में सबसे ज्यादा 434 विकेट लेने वाले टेस्ट गेंदबाज बन गए थे। हालांकि 1999 में वेस्टइंडीज के कर्टनी वाल्श ने कपिल देव की इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया था। कपिल देव ने टेस्ट क्रिकेट में ऑलराउंडर के तौर पर 4000 रन बनाए और साथ ही  चार सौ विकेट भी लिए ऐसा करने वाले वह एकमात्र खिलाड़ी हैं और एक विशेषता उनकी यह भी है कि वह टेस्ट क्रिकेट की 184 पारियों में कभी भी रन आउट नहीं हुए और साथ ही साथ एक टेस्ट पारी में 9 विकेट लेने वाले कपिल देव एकमात्र कप्तान है।

(2) अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय क्रिकेट में कपिल देव ने 253 विकेट लिए थे। और साथ ही साथ कपिल देव ने जिंबाब्वे के खिलाफ 1983 के वर्ल्ड कप में 175 रन भी बनाया था जो उनका व्यक्तिगत सर्वोच्च स्कोर था।

कपिल देव को कौन -कौन से अवार्ड से सम्मानित किया गया था? (Kapil Dev Ko Kon Kon Se Award Se Sammanit Kiya Tha)

(1) अर्जुन पुरस्कार

(2) पद्म श्री

(3) विजडन क्रिकेट ऑफ द ईयर

(4) आईसीसी क्रिकेट हाल ऑफ फेम

कपिल देव की आत्मकथा पर बनी मूवी (Kapil Dev Ki Atmakatha Par Bani Movie)

कपिल देव की आत्मकथा “by God dicree” पर कबीर खान के दिशा निर्देश में और साथ ही साथ रणवीर सिंह के अभिनय में कपिल देव के ऊपर मूवी बनी है। इस मूवी का नाम 83 है। यह सिनेमाघरों में 24 दिसंबर 2021 को रिलीज हुई थी। इस मूवी की विशेषता यह है कि कपिल देव की शुरुआती संघर्ष जीवन और वर्ल्ड कप में उनका योगदान और उनका विवादित जीवन क्या है? इस विषय में विस्तार से दिखाया गया है। रणबीर सिंह ने इस मूवी में कपिल देव का रोल निभाया है। और साथ ही साथ दीपिका पादुकोण ने रोमी भाटिया का किरदार निभाया है।

कपिल देव की जीवन से जुड़े कुछ रोचक फैक्ट (Kapil Dev Ki Jivan Se Jude Kuchh Rochak Tathya)

Name Kapil dev
First test match 1978
First odi1978
Highest score(ODI)175 run (Batsman), 234 wicket (Bowler)
Highest score (Test Match)163 run (Batsman), 434 wicket(Bowler)
Raashimakar raashi
HobbyGolf, table tennis and movie dekhna
Hight6 feet
Weight80 kg
Favorite shotsHuk and drive

निष्कर्ष :

कपिल देव भारत के ऐसे भूतपूर्व क्रिकेटर हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 400 विकेट भी लिए हैं और 4000 रन भी बनाए हैं और वनडे क्रिकेट में 253 विकेट लिए हैं और उनकी विशेषता यह भी है कि वह बतौर कप्तान के तौर पर 1983 का वर्ल्ड कप भी भारत को जिताया था और साथ ही साथ वह टेस्ट क्रिकेट की 184 पारियों में कभी भी रन आउट नहीं हुए हैं।

सामान्य प्रश्न

(1) कपिल देव किस-किस घरेलू टीम में खेले हैं

कपिल देव ने हरियाणा और साथ ही साथ नॉर्थहेम्प्टनशायर और वोर्स्टरशायर की तरफ से क्रिकेट खेला है।

(2) कपिल देव की सर्वाधिक घाटक गेंद कौन सी है?

कपिल देव की सर्वाधिक घाटक बॉल आउट स्विंग और स्विंग यॉर्कर हैं, जोकि उसको 140 किमी प्रति घंटे से अधिक की गति से करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here