इमली के पेड़ का रहस्य

0
1713
imli ke ped ka rahasya

Imli ke Ped ka Rahasya: चरक संहिता के अनुसार इमली की तासीर गर्म होती है। जिसकी परिणामस्वरूप वात और पित्त को कम करती है। लेकिन ध्यान देने वाली बात इमली से सम्बंधित भ्रामक बातें ग्रामीण समाज में फैली है। जिसके अनुसार कहा जाता है कि इसके पेड़ के नीचे भूत-पिशाच का साया रहता है। इस बात में कितनी सच्चाई है कि आखिरकार इमली के पेड़ के नीचे जाने से जी क्यों मिचलाने लगता है?  इमली में विटामिन सी और प्रोटीन,मिनरल्स  के भंडार पाए जाते हैं जो घाव,पेट दर्द और सूजन ,गैस ,कब्ज ,बालों के झड़ने की बीमारी से निजात दिलाते हैं। आखिरकार इसकी सच्चाई क्या है आपको बता दें कि इमली में एंटीमाइक्रोबॉयल, एंटीबैक्टीरियल, एंटीइंफ्लेमेटरी का गुण पाया जाता है। आइये जानते है कि इमली से जुड़े कुछ मिथक तथ्य क्या है?

इमली के पेड़ से जुड़े कुछ मिथक तथ्य क्या है?

भारत के ग्रामीण समाज में प्राचीन काल से यह धारणा प्रचलित है कि इमली के पेड़ में भूतों का साया रहता है। इसका कारण यह है कि इमली के पेड़ के नीचे खड़े होने से चक्कर आने लगता है। साथ ही साथ शरीर में कहीं-कहीं फफोले भी पड़ जाते हैं और इसके अलावा सिर भारी होने लगता है और जी मिचलाने लगता है।

imli ke ped ka rahasya

क्या सच में इमली के पेड़ में भूतों का साया रहता है?

इमली के पेड़ में कोई भी भूतों का साया नहीं रहता है। वैज्ञानिक के मुताबिक इमली के पेड़ के नीचे खड़े होने से चक्कर इसलिए आते हैं क्योंकि इमली में अम्लता का गुण बहुत ज्यादा पाया जाता है। जिसके परिणाम स्वरूप शरीर में हवा के माध्यम से अम्ल प्रवेश करने से चक्कर और जी मिचलाने की समस्या पाई जाती है।

निष्कर्ष:

इमली के पेड़ में किसी भी भूत का साया नहीं रहता है अपितु इमली के पेड़ में अम्ल बहुत ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप जी मिचलाना और चक्कर आने की समस्या होती है।

FAQ:

(1) इमली के पेड़ में किसका वास होता है?

इमली के पेड़ में भूतों का वास होता है ऐसी धारणा प्राचीन काल में बनी हुई थी लेकिन अभी आधुनिक काल में इसका खंडन हो गया।

(2) इमली के पेड़ के नीचे क्यों नहीं सोना चाहिए?

इमली के पेड़ के नीचे इसलिए नहीं सोना चाहिए क्योंकि इसमें उच्च अम्ल का गुण पाया जाता है। जिसके फलस्वरूप कमजोरी, थकान और चक्कर आने की समस्या हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here