भारत के इस बैंक में मिलता है मां का दूध, नवजात शिशुओं के लिये है अमृतपान

0
2867
human milk bank in India

Human Milk Bank in India in Hindi: संयुक्त राष्ट्र बाल सुरक्षा कोष के अनुसार भारत में नवजात शिशु की मृत्यु होने से अर्थव्यवस्था को 14 बिलियन डॉलर हानि होता है। और साथ ही साथ यदि 0 महीने से लेकर 23 महीने तक लगातार बच्चे को मां का दूध पिलाया जाए तो इससे हर साल विश्व स्तर पर 800000 बच्चे की जान बचाई जा सकती है। और 99499 नवजात शिशु दस्त और निमोनिया से मर जाते हैं इसका कारण है अपर्याप्त स्तनपान।

चीन, भारत, ब्राजील, मेक्सिको और इंडोनेशिया में अपर्याप्त स्तनपान के कारण 236000 बच्चों की हर वर्ष मृत्यु होती है। अब आप इसी से अनुमान लगा सकते है की हमारी लापरवाही के कारण कितने बच्चे मर जाते हैं। वह भी मां का दूध समय न मिल पाने के कारण क्योंकि मां के दूध में ऐसे-ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो बच्चे के इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग करता है। मां के दूध में लेक्टोफार्मिंन नामक एलिमेंट पाया जाता है जो आंत में लौह तत्व को बांधता है। जिससे लौह तत्व के अभाव में बच्चे को कोई बीमारी ना हो जाए।

ह्यूमन मिल्क बैंक क्या होता है? (Human Milk Bank Kya Hota Hai | What is Human Milk Bank in Hindi)

ह्यूमन मिल्क बैंक एक गैर लाभकारी संस्था है जो नवजात शिशुओं के लिए मां के दूध को पाश्चराइजेशन यूनिट और साथ ही साथ रेफ्रिजरेटर और डीप फ्रीज और आरो प्लांट जैसी तकनीक का उपयोग करके दूध को स्टोर करके 6 महीने तक रखा जाता है। जिससे जिस भी किसी बच्चे को मां की दूध की आवश्यकता हो उसे समय के अनुसार मिल जाए। हांलाकि माता का दूध ह्यूमन मिल्क बैंक में 10 से 15 दिन तक ही रह पाता है क्योंकि इसका कारण है अधिक मांग।

ह्यूमन मिल्क बैंक का उद्देश्य क्या है? (Human Milk Bank Ka Uddeshya Kya Hai | Purpose of Human Milk Bank in Hindi)

(1) शिशु मृत्यु दर की संख्या में कमी लाना|

(2) मातृ मृत्यु दर में भी कमी लाना अर्थात मेरे कहने का आशय यह है कि कई बार ऐसा होता है कि मां के अंदर दूध ज्यादा बनता है यदि वह दूध का दान नहीं करेंगीं तो उनको कई बीमारियां हो सकती हैं यदि वह दूध का दान करती हैं उनको मातृ सुख का अहसास और साथ ही साथ कई बीमारियों से मुक्त भी हो जाएंगी।

(3) अर्थव्यवस्था में जो 14 बिलियन डालर का लॉस हो रहा है उसकी भरपाई करना।

ह्यूमन मिल्क में कौन-कौन सा पोषक तत्व पाया जाता है? (Human Milk Me Kon Kon Sa Poshak Tatva Hota Hai)

(1) प्रोटीन (व्हे प्रोटीन और केसीन प्रोटीन)

(2) फैट

(3) विटामिन – विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन ई, विटामिन k और राइबोफ्लेविन, पैन्थोनीक

(4) कार्बोहाइड्रेट

(5) हार्मोन – प्रोलैक्टिन, रिलैक्सिन, एंडोर्फिन,कार्टिसोल, लेप्टिन, एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन

(6) मिनरल्स- आयरन, जिंक, कैल्शियम, सोडियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम, क्लोराइड

(7) एंजाइम

भारत में कौन-कौन से मिल्क बैंक में माँ का दूध उपलब्ध है? (Bharat Me Kon Kon Se Milk Bank Me Maa Ka Dudh Milta Hai | Which All Milk Bank in India Avail Mother Milk in Hindi)

(1) भारत का सबसे पहला ह्यूमन मिल्क बैंक अमारा मिल्क बैंक है जो ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन के साथ 2016 से दिल्ली एनसीआर में दूध की आपूर्ति कर रहा है। ध्यान देने योग्य बात यह है कि अमारा मिल्क बैंक की जब से स्थापना हुई है तब से इसने 5000 से 6000 बच्चों की जान बचाई है।

(2) उसके बाद सन् 2017 में लेडी हार्डिंग कॉलेज में वात्सल्य मातृ अमृत कोष नामक ह्यूमन मिल्क बैंक की स्थापना की गई। यह वात्सल्य मातृ अमृत कोष भारत और नार्वे की साझेदारी का परिणाम हैं।

(3) उसके बाद यशोदा ह्यूमन मिल्क बैंक की स्थापना की गई। यह भारत का इकलौता ह्यूमन मिल्क बैंक है जो निजी हॉस्पिटल में स्थापित की गई है। यह व्यापक स्तनपान प्रबंधन और साथ ही साथ प्रशिक्षण और अनुसंधान केंद्र भी है।

(4) उसके बाद मध्य भारत का पहला ह्यूमन मिल्क बैंक अमरावती के पंजाब राव देशमुख मेडिकल कॉलेज में स्थापित किया गया। हालांकि इसकी कैप्सिटी अभी तीन यूनिट तक है।

(5) केरल में भी ह्यूमन मिल्क बैंक की स्थापना की गई।

निष्कर्ष

ह्यूमन मिल्क बैंक एक गैर लाभकारी संस्था है जो नवजात शिशुओं के लिए मां के दूध को स्टोर किया जाता है जिससे हर समय नवजात शिशु के लिए मां का दूध उपलब्ध रहे। मां के दूध में प्रोटीन और साथ ही साथ विटामिन और मिनरल्स, हार्मोन और एंजाइम और कार्बोहाइड्रेट जैसे एलिमेंट पाए जाते हैं।

सामान्य प्रश्न

(1) विश्व का पहला ह्यूमन मिल्क बैंक की स्थापना किस सन में हुई

विश्व का पहला ह्यूमन मिल्क बैंक की स्थापना सन 1909 में हुई जिसे खोलने का श्रेय थियोडोर एसचेरिस को जाता हैं। उसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका में बोस्टन फ्लोटिंग अस्पताल में ह्यूमन मिल्क बैंक की स्थापना की गई।

(2) ह्यूमन मिल्क बैंक का उद्देश्य क्या है?

ह्यूमन मिल्क बैंक का उद्देश्य है कि कुपोषण में कमी लाना अर्थात जो बच्चे किसी कारणवश मां का दूध नहीं प्राप्त कर पाते हैं उनके लिए मां का दूध का इंतजाम करना।

ये भी पढ़े: जानें खीरे और अनानास से एक हेल्दी और टेस्टी स्मूदी बनाने की रेसिपी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here