Summer Olympics India 2021: समर ओलंपिक के खेलों में भारत ने अब तक कुल 28 पदक हासिल किए हैं। क्या आप जानते हैं कि पहला आधुनिक ओलंपिक का खेल साल 1896 में एथेंस, ग्रीस में आयोजित हुआ था। और भारत को समर ओलंपिक के खेलों में अपना पहला प्रतिनिधित्व देखने से पूर्व मात्र चार साल लगे। भारत के लिए यह साल 1900 में शुरू हुआ जब भारत ने अपनी ओर से अकेले एथलीट नॉर्मन प्रिचर्ड को इस खेल में हिस्सा लेने के लिए पेरिस भेजा था।

प्रिचर्ड ने 200 मीटर के साथ साथ पुरुषों की 200 मीटर बाधा दौड़ में भी दो पदक हासिल किए। और भारत के इतिहास के मुताबिक तब से लेकर अब तक होने वाले सभी समर ओलंपिक की खेलों में भारत ने हमेशा भाग लिया है।

आपको बता दें कि भारत ने साल 1920 में अपनी ओर से पहली ओलंपिक की टीम रवाना की थी। और उस टीम में चार एथलीट के साथ दो पहलवान भी थे। हालाँकि, यह केवल साल 1928 तक ही नहीं था जब भारत ने अपना अगला पदक देखा और फिर ओलिंपिक में भारतीय हॉकी टीम के वर्चस्व की शुरुआत हुई।

स्वतंत्रता के पूर्व हॉकी के नाम आए तीन स्वर्ण पदक – Summer Olympics India 2021

भारतीय हॉकी टीम ने स्वतंत्रता के पूर्व 1928 से 1936 तक समर ओलंपिक में अपना खेल जमाए रखा और बेहद ही शानदार जीत के साथ तीन स्वर्ण पदक हासिल किए। बता दें कि साल 1928 के एम्स्टर्डम में हुए ओलंपिक के खेल में, भारतीय टीम ने फाइनल में नीदरलैंड की टीम को 3-0 से हराकर पहला स्वर्ण पदक हासिल किया था। लेकिन उसके पूर्व भारतीय टीम ने ऑस्ट्रिया,डेनमार्क, बेल्जियम, और स्विट्जरलैंड को भी हराया था।

साल 1932 में आयोजित समर ओलंपिक में, भारतीय टीम ने यूएसए को 24-1 के लीड से हराया था, जो की ओलंपिक के इतिहास में जीत का सबसे अधिक और बड़ा अंतर था। साल 1936 में आयोजित किए गए समर ओलंपिक के फाइनल में, भारत ने जर्मनी को 8 – 1 से हराया था।

जानें स्वतंत्रता के बाद भारत ने जीते कितने पदक?

बता दें कि स्वतंत्रता के बाद भारतीय टीम ने हॉकी में कूल 8 पदक हासिल किए जिसमे 5 स्वर्ण हैं। स्वतंत्र भारत ने 1948 से ओलंपिक्स में एक विभिन्न खेल संघों की ओर से चुने गए 50 से ज्यादा एथलीटों के प्रतिनिधिमंडल मुकाबले के लिए भेजना शुरू किया। बता दें कि इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व शेफ-डी-मिशन द्वारा किया जा रहा था। 1948 के समर ओलिंपिक में भारतीय टीम ने ग्रेट ब्रिटेन को हराकर फाइनल में में स्वर्ण पदक हासिल किया था।

और स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में यह भारत का पहला स्वर्ण पदक था। उसके बाद उन्होंने 1956 के समर ओलंपिक में पाकिस्तान को फाइनल में हराकर अपना छठा खिताब हासिल किया था। इसके बाद 1960 के समर ओलंपिक में भारत ने अपने लगातार जीत के बाद हार का सामना किया था और फिर रजत पदक के साथ वापस लौटे थे। हालांकि भारतीय टीम ने 1964 के समर ओलंपिक में स्वर्ण पदक हासिल कर खेल में एक और बार वापसी की। लेकिन इसके बाद भारत अगले दो ओलंपिक में केवल कांस्य पदक के लिए ही बस गया।

हेलसिंकी 1952 में मिला भारत को पहला व्यक्तिगत पदक

खाशाबा दादासाहेब जाधव ने भारतीय इतिहास में एक पन्ना जोड़ दिया जब हेलसिंकी ओलंपिक में उन्होंने एक व्यक्तिगत खेल में कांस्य पदक जीता। क्योंकि उस जीत से वह पहले भारतीय बने जिसने व्यक्तिगत पदक हासिल किया था। 27 वर्षीय केडी जाधव ने शुरूआत में 1952 के समर ओलंपिक के लिए टीम ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया था। हालांकि उन्होंने पटियाला के कुश्ती के संरक्षक व महाराजा को लिख टीम में उनके चयन की बात की थी।

जिसके बाद महाराजा ने अधिकारियों को एक बार फिर से खेल को आयोजित करने के लिए कहा जो जाधव के इतिहास रचने की सीढ़ी थी। वह आखिरी ओलिंपिक था जिसमे उन्होंने भाग लिया था। उसके बाद 1955 में, एक उप-निरीक्षक के रूप में जाधव महाराष्ट्र पुलिस में शामिल हो गए।

उन्होंने आने वाले ओलंपिक के लिए तैयारी शुरू कर दी थी लेकिन फिर घुटने में गंभीर चोट लगने के कारण वह पीछे रह गए। उन्होंने अंत तक हार नही मानी। दुर्भाग्यवश वह 1984 में एक सड़क दुर्घटना के कारण अपनी जान गवां बैठे।

टेनिस में हासिल किया गया पहला व एकमात्र पदक – Summer Olympics India 2021

जब देश हॉकी के प्रति ही दीवाना था तब टेनिस को भी देश में एक पहचान देते हुए और एक पीढ़ी को प्रेरणा देते हुए, भारत के सबसे प्रसिद्ध टेनिस खिलाड़ियों में से एक सबसे खास नाम लिएंडर पेस है। उन्होंने 1996 में हुए समर ओलंपिक में टेनिस में पहला और आखिरी पदक हासिल किया था। और उस समय भारत के लिए यह बहुत ही बड़ी उपलब्धि थी।

साल 2000 में भारत को मिली पदक जीतने वाली पहली महिला

बता दें कि कर्णम मल्लेश्वरी ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी। जिन्होंने सिडनी ओलंपिक में 69 kg महिला वर्ग वेटलिफ्टिंग में कांस्य पदक हासिल किया था। Summer Olympics India 2021 बता दें कि उस इवेंट के दौरान उन्होंने कुल 240 किलो वजन उठाया था।

एथेंस 2004 की ओलंपिक्स में भारत को निशानेबाजी में मिला पहला पदक

राज्यवर्धन सिंह राठौर जो एक समय पर भारत के केंद्रीय खेल मंत्री के रूप में भी कार्य कर चुके हैं वह न केवल ओलंपिक में भारत की ओर से निशानेबाजी में रजत पदक हासिल करने वाले पहले व्यक्ति हैं। Summer Olympics India 2021 बल्कि वे इन खेलों में भारत के पहले व्यक्तिगत रजत पदक हासिल करने वाले निशानेबाज भी हैं।

यह भी पढ़े: ओलंपिक्स में हार के बाद कोच विवाद’ पर मनिका बत्रा ने तोड़ी चुप्पी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here