सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरपूर हींग जो शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाये

0
2402
hing ke fayde

Hing Ke Fayde: कई सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि हींग पाचन तंत्र और इसके साथ एसिडिटी की समस्या को दूर करने में काफी हद तक कारगर है। पैसे कमाने की होड़ में हर व्यक्ति का लाइफस्टाइल परिवर्तित होने के कारण कई रोग जैसे- कब्ज-गैस, बुखार और पेट में दर्द, दाद की समस्या और डायबिटीज की भी समस्या उत्पन्न हो जाती है। ऐसे में लोग अपने आय का एक बड़ा हिस्सा अपने इलाज में खर्च कर देते हैं। उनके पास अधिशेष के रूप में कुछ नहीं बचता है। लेकिन आपको बता दें कि हींग में ये सब गुण पाया जाता है। हींग एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसका लाभ आपको दीर्घकाल में मिलेगा अल्पकाल में नहीं। चरक संहिता में हींग के गुणो का विशेष वर्णन है।

हींग क्या है? (Hing Kya Hota Hai)

हींग एक सौंफ प्रजाति का पौधा है जो मूलतः ईरान का एक बारहमासी पौधा है। हींग का स्वाद खाने में कच्चे लहसुन की तरह लगता है। इसके पीछे का कारण है सल्फर की उपस्थिति।  भारत में पंजाब और कश्मीर में हींग पाया जाता है। लेकिन इसकी वाणिज्यिक महत्व को देखते हुए हिमाचल प्रदेश की सरकार ने इसकी खेती करने के लिए किसानों को सब्सिडी के साथ कौशल का भी ज्ञान दे रही है। प्रकृति में हींग दो प्रकार के पाए जाते हैं सफेद हींग और लाल हींग।सफेद हींग पोषक के  दृष्टिकोण से सबसे अच्छा माना जाता है।  लाल हींग में सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी होती है। जिसके परिणाम स्वरूप या स्वास्थ्य के लिए ज्यादा लाभदायक नहीं माना जाता है।इसका वैज्ञानिक नाम “फेरूला एसा फैटिडा” है।

हींग में पाया जाने वाला पोषक तत्व कौन-कौन सा है? (Hing Me Kon Kon Sa Poshak Tatva Hota Hai)

(1) प्रोटीन

(2) फाइबर

(3) कार्बोहाइड्रेट

(4) कैल्शियम

(5) आयरन

(6) नियासिन

(7) राइबोफ्लेविन

हींग के सेवन से हमारे शरीर कौन-कौन सी बीमारियां दूर होती है? (Hing Ke Sevan Se Dur Hone Vali Bimari | Hing Ke Fayde)

(1) बुखार को ठीक करता है 

इसमें एंटीमाइक्रोबॉयल जैसे गुण पाए जाते हैं जो बुखार को ठीक करने में काफी हद तक सहायक है। इसके साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी सुदृढ़ बनाता है। और इसमें पाया जाने वाला एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण भी बुखार को नियंत्रित करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है।

(2) हड्डियों को मजबूत बनाता है

हींग में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है। जिस भी व्यक्ति की हड्डियां कमजोर हो गई है। उसे प्रतिदिन अपने आहार में हींग का सेवन करना चाहिए। इससे हड्डियों की समस्या काफी हद तक दूर हो जाएगी।

(3) पेट के गैस को करे छूमंतर

यह आपको कब्ज और गैस की समस्या है। तब आपको प्रतिदिन अपने आहार में हींग का सेवन करना चाहिए। इससे आपके पेट की गैस की समस्या दूर होगी। यदि हींग का सेवन एक लंबी अवधि तक किया जाए। तब भविष्य में कभी भी कब्ज और गैस की समस्या नहीं होगी।

(4) मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है 

हींग में पाए जाने वाला इन्फ्लेमेटरी गुण मेटाबॉलिज्म को  बूस्ट करता है। जिससे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है।

(5) बाल की जड़ो को बनाये मजबूत

हींग में आयरन पाया जाता है जो बाल की जड़ों को मजबूत बनाता है। और हमारे बाल असमय से पहले गिरने से बच जाते हैं। एक सर्वे के मुताबिक शरीर में आयरन की कमी के कारण बाल की जड़ें कमजोर हो जाती हैं। जिससे हमारे सर के बाल बहुत ज्यादा मात्रा में झड़ने लगते हैं।

(6) दाद को ठीक करने में सहायक

ठन्डियो के मौसम में चेहरे में दाद हो जाता है। यदि दाद से निजात पाना है तो हींग का लेप चेहरे पर लगाएं। जिसके परिणाम स्वरूप कुछ दिनों बाद दाद ठीक हो जाएगा। क्योंकि इनमें एंटीमाइक्रोबियल्स गुण पाए जाते हैं।

(7) दांत दर्द को दूर करने में सहायक

हींग दांत दर्द को दूर करने में भी सहायक है। बस प्रभावित जगह पर हींग का लेप लगा दीजिए इससे दांत का दर्द ठीक हो जाएगा।

हींग के सेवन से शरीर पर होने वाला दुष्प्रभाव क्या है? (Hing Ke Sevan Se Hone Vale Dushprabhav | Hing Ke Sevan Ke Nuksan)

(1) गर्भधारण करने वाली माताओं को हींग सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात होने की संभावना बढ़ जाती है।

(2) यदि हींग अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो इससे शरीर में रेसेज भी हो सकते हैं। यदि समय से पहले इसका उपचार न किया जाए तो यह नासूर भी बन सकता है।

(3) कई रोगियों में हींग के अधिक सेवन से होठों में सूजन की भी समस्या मिली है।

(4) जिस भी व्यक्ति का रक्तचाप का स्तर निम्न और उच्च है उसे हींग के सेवन से परहेज करना चाहिए।

हींग का उपयोग कैसे करे? (Hing Ka Upyog Kaise Karen)

हींग का उपयोग आप दाल में और सब्जियों में कर सकते हैं अपने प्रतिदिन के आहार में ध्यान देने योग्य बात यह है कि अंधाधुंध हींग का उपयोग दाल और सब्जियों में नहीं करना। प्रभावित अंग पर हींग का लेप का भी उपयोग कर सकते हैं।

निष्कर्ष

चरक संहिता के अनुसार हींग हमारे शरीर के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। क्योंकि इसमें पाया जाने वाला पोषक तत्व हमारे शरीर के सभी अंगों को स्वस्थ रखने में अपनी सहायक की भूमिका अदा करता है। इसके साथ ही यह स्वाद में भी बहुत अच्छा है।

सामान्य प्रश्न

(1) सुबह खाली पेट हींग खाने से क्या फायदा होता है?

सुबह खाली पेट ही खाने से अपच जैसी समस्याओं से निजात मिलती है। इसका कारण है हींग में पाए जाने वाला एंटी इन्फ्लेमेंटरी गुण टॉक्सिंस को शरीर से बाहर निकालता है।

(2) प्रतिदिन की दिनचर्या में एक व्यक्ति को हींग की कितनी मात्रा का सेवन करना चाहिए?

प्रतिदिन की दिनचर्या में एक व्यक्ति को न्यूनतम 5 मिलीग्राम अधिकतम 30 मिलीग्राम तक हींग का सेवन करना चाहिए।

(3) हींग की तासीर कैसी होती है?

हींग की तासीर गर्म होती है जो वात और पित्त का संतुलन बनाता है।

(4) भारत के किस राज्य में हींग की खेती की शुरुआत की गई है?

भारत के हिमाचल प्रदेश में हींग की खेती की शुरुआत की गई है।

(5) हींग का वैज्ञानिक नाम क्या है?

हींग का वैज्ञानिक नाम “फेरूला एसा फैटिडा” है।

ये भी पढ़ें: जानें लौंग के यह 5 फायदे, पाचन में करता है सुधार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here