Haldi Doodh Ke Fayde: सर्दियों के सीजन में कफ को निचोड़ कर गले से बाहर करता है यह ड्रिंक जानिए इसके फायदे और बनाने की विधि के बारे में

0
389
Haldi-Doodh-Ke-Fayde

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार हल्दी में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी आक्सीडेन्ट का गुण पाया जाता है जो कैंसर के 60% खतरे को काम करता है अर्थात इस रिपोर्ट का आशय यह है कि जो अपनी डेली रूटीन में हल्दी दूध का सेवन करता है उसको आम व्यक्ति के मुकाबले 60% कम चांस है कैंसर होने की। हल्दी में करक्यूमिन नामक रसायन पाया जाता है जो एंटी कैंसर कारक है। हल्दी का दूध पीने से शरीर में वात पित्त कब संतुलित रहते हैं हल्दी का दूध पीने से शरीर में यदि कैफ बढ़ गया है कैफ को निचोड़ करके गले से बाहर कर देता है।कफ बढ़ने से गले में दर्द, सूजन और चिकना लगने लगता है जिससे भोजन को निगलने में तकलीफ होती है।Haldi Doodh Ke Fayde के बॉडी के हर अंग के लिए है। विदेश में हल्दी दूध को गोल्डन मिल्क के नाम से भी जाना जाता है

हल्दी दूध(Golden Milk) पीने से पहले जानिए इसमें न्यूट्रिशन कौन-कौन सा होता है

(1)कैल्शियम

(2)आयरन

(3)मैग्नीशियम

(4)फास्पोरस

(5)पोटेशियम

(6)सोडियम

(7)जिंक

(8)कॉपर

(9)मैंगनीज

(10)कार्बोहाइड्रेट

(11)विटामिन ई

(12)विटामिन के

(13)प्रोटीन

हल्दी दूध के फायदे कौन-कौन से होते हैं

(1) शरीर की हड्डी मजबूत बनती है

शरीर में कैल्शियम की कमी से हड्डियां कमजोर होने लगते हैं। जिसके परिणाम स्वरूप ओस्टियोपोनिया और ऑस्टियोपोरोसिस नामक रोग हो जाता है। हल्दी दूध में कैल्शियम पाया जाता है और साथ ही साथ विटामिन डी पाया जाता है। विटामिन डी आंत में कैल्शियम की अब्जॉर्ब की कैपेसिटी को इंक्रीज करता है जिससे हड्डियां बहुत स्ट्रांग बन जाती हैं यदि शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाए तो हड्डियां कमजोर होने लगती है।

(2) कमजोर पाचन को मजबूत करती है

सुबह ब्रेकफास्ट ना करना और देरी से भोजन करना इन सब के कारण पाचन क्रिया कमजोर हो जाती है और अपच की प्रॉब्लम होने लगती है एक सर्वे के अनुसार जो भी व्यक्ति रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध या गोल्डन मिल्क का सेवन करता है तो उसकी अपच की प्रॉब्लम दूर हो जाती है।

(3) सर्दी जुकाम से प्रोटेक्ट करता है

टेस्ट ट्यूब के एक स्टडी में यह खुलासा हुआ है कि हल्दी के दूध में एंटी फंगल या एंटीवायरल का गुण पाया जाता है। हल्दी दूध में सिनामाल्डिहाइड नामक एक कंपाउंड पाया जाता है जो बैक्टीरिया के विकास को रोक देता है। हल्दी दूध का सबसे बड़ा फायदा यह भी होता है कि यदि सांस लेते हुए गले में दर्द हो रहा है उससे भी छुटकारा मिलता है सर्दियों के मौसम में हल्दी दूध ईश्वर का दिया हुआ प्रसाद के समान होता है जिसकर सेवन के पश्चात मानसिक और शारीरिक दोनों लाभ होता है।

(4) कैंसर से रक्षा करता है

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की एक रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान समय में भारत में हर 100 व्यक्ति में से 10 व्यक्ति कैंसर के रोगों से लड़ रहा है। कैंसर एक तरह का सेल्स होता है जो लगातार शरीर में बढ़ता रहता है टेस्ट ट्यूब के एक रिपोर्ट के अनुसार हल्दी दूध में करक्यूमिन नामक केमिकल पाया जाता है जो कैंसर की बढ़ती हुई कोशिकाओं को न केवल रोकता है अपित उन्हें नष्ट भी कर देता है

(5) बढ़े हुए डायबिटीज को काम करता है

हल्दी दूध में एंटी डायबिटिक का भी गुण पाया जाता है हल्दी दूध शरीर में इंसुलिन की स्रावण को प्रोत्साहित करता है जिसके परिणाम स्वरुप डायबिटीज संतुलित हो जाता है एक रिसर्च के अनुसार दुनिया में हर 100 व्यक्ति में से 70 व्यक्ति डायबिटीज की चपेट में आ चुका है और उनमें से 40 व्यक्ति टाइप टू डायबिटीज को रिवर्स करने में भी सफल हुए हैं यदि आप अपनी डेली रूटीन में हल्दी दूध को शामिल करते हैं डायबिटीज को आसानी से रिवर्स किया जा सकता है।

(6) हार्ट की बीमारियों से भी प्रोटेक्ट करता है

भारत में डेली होने वाली मौतों में 20% मृत्यु हार्ट अटैक की वजह से होती है। हार्ट अटैक होने का कारण है लाइफ स्टाइल का सही ना होना और फास्ट फूड का सेवन ज्यादा मात्रा में करना। यदि हार्ट अटैक की बीमारी ना हो तो अपने भोजन में से फास्ट फूड को सेवेन को निकाल दीजिए और अपने आहार में हल्दी वाला दूध शामिल करिए एक रिसर्च के अनुसार 100 व्यक्तियों को हल्दी वाला दूध एक महीने लगातार दिया गया और यह देखा गया कि उनका कोलेस्ट्रॉल लेवल संतुलित था जिसके कारण ब्लड प्रेशर भी बैलेंस था।

(7) डिप्रेशन नहीं होता है

6 सप्ताह के एक स्टडी में यह खुलासा हुआ कि डिप्रेशन के मरीजों को हल्दी वाला दूध दिया गया इसके बाद चौंकाने वाला खुलासा यह हुआ कि वह मरीज दवाइयां की तुलना में तेजी से अवसाद से उबरने लगे थे हल्दी में करक्यूमिन नामक एक केमिकल पाया जाता है जो एंटी डिप्रेशन का भी काम करता है।

(8) याददाश्त को बढ़ाता है

हल्दी दूध पीने से याददाश्त बढ़ती है एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ कि हल्दी दूध न्यूरोट्रॉपिक को इंक्रीज करता है जिससे स्मरण क्षमता बढ़ती है और यदि न्यूरोट्रॉपिक का लेवल कम हो जाए तो अल्जाइमर नामक रोग हो जाता है।

(9) शरीर में हुए सूजन को ठीक करता है

शरीर की किसी भाग में जैसे हाथ में गले में मस्तिष्क में हाथ में पैर में सूजन हो गया है तो घबराने की बात नहीं है बस आप रात को सोने से पहले हल्दी दूध का सेवन करें इससे आपका सूजन ठीक हो जाएगा क्योंकि हल्दी में एंटीपायरेटिक का गुण पाया जाता है।

(10) चेहरे पर निखार लाता है

हल्दी दूध एंटीबैक्टीरियल होता है यदि आप प्रतिदिन हल्दी दूध का सेवन करते हैं इससे ब्लड डिटॉक्स होता है और चेहरे पर निखार आ जाता है 10 सप्ताह के हुए एक सर्वे में 40 व्यक्तियों को प्रतिदिन हल्दी दूध दिया गया रात को सोने से पहले वह भी लगातार 20 दिनों तक 20 दिनों के बाद जो परिणाम आया वह परिणाम चौंकाने वाला था परिणाम यह था कि उनका चेहरा कमल की तरह खिल उठा था।

हल्दी दूध के नुकसान कौन-कौन से होते हैं?

(1) हल्दी दूध ज्यादा मात्रा में पीने से शरीर में आयरन की कमी हो सकती है क्योंकि हल्दी आयरन को अब्जॉर्ब नहीं होने देता है शरीर में

(2) हल्दी दूध पीने से डाइजेशन की भी प्रॉब्लम होती है

(3) टाइप 1 डायबिटीज के मरीजों को हल्दी दूध के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इससे ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ाने की संभावना रहती है

हल्दी दूध बनाने में कौन-कौन सी सामग्री उपयोग में लाई जाती है

(1) 200 ML दूध

(2)एक चुटकी हल्दी

(3)एक चम्मच शहद

(4)एक चुटकी केसर

हल्दी दूध बनाने की विधि क्या है?

(1) हल्दी वाला दूध बनाने के लिए सबसे पहले पतीली लेना है

(2) उसे पतीली में दूध उबाल लेना है

(3) जब दूध में उबाल आने लगे तब हल्दी और केसर को डालकर कम से कम 2 मिनट तक पकाएं

(4) 2 मिनट पकाने के बाद पतीली को उतार लेना है और हल्का ठंडा होने देना है फिर शहद डालकर सर्व करें

निष्कर्ष:

हल्दी वाला दूध भारत में सर्दियों के मौसम में रूप प्रतिरोधक क्षमता को बढाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है लेकिन उत्तर भारत और दक्षिण भारत में हल्दी का उपयोग शादी विवाह के पर्व पर भी किया जाता है और जब किसी व्यक्ति को शारीरिक चोट लग जाती है तो उसे हल्दी वाला दूध दिया जाता है क्योंकि हल्दी वाला दूध एंटीबैक्टीरियल होता है जिससे घाव जल्दी ठीक हो जाते हैं सूजन भी कम हो जाता है।

रोज दूध में हल्दी डालकर पीने से क्या होता है?

रोज दूध में हल्दी डालकर पीने से शरीर की इम्युनिटी बढ़ती है जो बीमारियों से लड़ने में मदद करती है

सुबह सुबह खाली पेट हल्दी वाला दूध पीने से क्या फायदा होता है?

सुबह-सुबह खाली पेट हल्दी वाला दूध पीने से बॉडी डिटॉक्स होता है अर्थात बॉडी से हार्मफुल केमिकल शरीर से बाहर हो जाते हैं मल के मार्ग से

एक गिलास दूध में हल्दी कितनी डालनी चाहिए?

एक गिलास दूध में एक चुटकी हल्दी डालनी चाहिए

हल्दी का दूध कब नहीं पीना चाहिए?

हल्दी वाला दूध लीवर के मरीज और प्रेग्नेंट महिला को नहीं पीना चाहिए

हल्दी वाला दूध पीने का सबसे अच्छा समय क्या है?

हल्दी वाला दूध पीने का सबसे अच्छा समय रात का समय है जब आप सोने जा रहे हैं उससे पहले एक गिलास हल्दी वाला दूध पिए इससे आपका शरीर तंदुरुस्त रहेगा।

क्या हल्दी वाला दूध खून पतला करने वाला होता है?

हल्दी वाला दूध खून को पतला करता है इसीलिए जो खून पतला करने वाली दवाइयां का सेवन करते हैं उन्हें हल्दी वाला दूध नहीं पीना चाहिए

हल्दी की तासीर कैसी होती है

हल्दी की तासीर गर्म होती है इसीलिए सर्दी के मौसम में शरीर में गर्मी लाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है

खाना खाने के कितनी देर बाद हल्दी वाला दूध पीना चाहिए?

खाना खाने की 1 घंटे बाद हल्दी वाला दूध पीना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here