Faridabad mein ghumne ki jagah: हरियाणा के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित, फरीदाबाद राज्य का सबसे बड़ा और प्रमुख औद्योगिक शहर है। इस शहर का नाम 12वीं सदी के श्रद्धेय सूफी संत शेख फरीद के नाम पर पड़ा है। हालांकि लोग राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का दौरा करते समय फरीदाबाद को भूल जाते हैं, लेकिन इस जगह में कुछ सुंदर पर्यटक आकर्षण हैं। फरीदाबाद की कुछ अद्भुत जगहों के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।

फरीदाबाद में घूमने के लिए 5 सबसे सुन्दर जगह – Faridabad mein ghumne ki jagah

राजा नाहर सिंह पैलेस – Raja Nahar Singh Palace

faridabad mein ghumne ki jagah

19वीं शताब्दी में स्थापित, राजा नाहर सिंह पैलेस जाट नाहर सिंह के शाही परिवार द्वारा बनाया गया था। बल्लभगढ़ किला पैलेस के रूप में भी जाना जाता है, यह स्थान दक्षिण दिल्ली से लगभग 15 किमी दूर स्थित है। इस जगह में विशाल मंडप, शानदार आंगन, सुंदर कमरे, विशाल मेहराब और बहुत कुछ है। इससे आपको इस क्षेत्र के समृद्ध इतिहास की एक झलक पाने का मौका मिलता है।

बधकल झील – Badkhal Lake

faridabad mein ghumne ki jagah

बधकल झील कभी एक लोकप्रिय पिकनिक स्थल था जहाँ पर्यटक नौका विहार, पक्षी देखने, खेल और बहुत कुछ का आनंद ले सकते थे। हालांकि, अब इस जगह की यात्रा केवल मानसून के मौसम में ही संभव है, जब बारिश का पानी झील में भर जाता है। Faridabad mein ghumne ki jagah फिर भी, मनोरंजक गतिविधियों जैसे घुड़सवारी, ऊंट की सवारी, और कई अन्य का आनंद यहां पूरे वर्ष लिया जा सकता है। इसके अलावा, आप वसंत के मौसम में यहां आयोजित होने वाले प्यारे फ्लावर शो में शामिल हो सकते हैं।

बाबा फरीद का मकबरा – Faridabad mein ghumne ki jagah

बाबा फरीद 12वीं शताब्दी के एक सूफी पूज्य संत थे और माना जाता है कि इस शहर का नाम उन्हीं के नाम पर पड़ा। यह मकबरा 13वीं शताब्दी में मुगलों द्वारा बनाया गया था और इसके दो प्रवेश द्वार हैं, पश्चिम में बहिष्थी दरवाजा (स्वर्ग का द्वार) और पूर्व में नूरी दरवाजा (प्रकाश का द्वार)।

इस मकबरे में दो कब्रें हैं, एक सूफी संत की और दूसरी उनके बड़े बेटे की। कब्रों पर चादरें और फूल चढ़ाकर श्रद्धांजलि देने के लिए दुनिया भर से बहुत से लोग यहां आते हैं। यह जगह हर गुरुवार शाम को एक कव्वाली संगीत कार्यक्रम, महफिल-ए-समा में भाग लेने के लिए बहुत सारे लोगों को देखती है।

शिरडी साईं बाबा मंदिर – Shirdi Sai Baba Temple Society

faridabad mein ghumne ki jagah

शिरडी साईं बाबा मंदिर शहर के सबसे लोकप्रिय धार्मिक स्थलों में से एक है और भक्त साल भर इस स्थान पर आते हैं। मंदिर को मुख्य मंदिर और सफेद, हरे और पीले रंग के संगमरमर के पत्थर से बना एक बड़ा हॉल के साथ खूबसूरती से डिजाइन किया गया है।

3 एकड़ के क्षेत्र में निर्मित, मंदिर में द्वारका माई और धूनी की मूर्तियों के साथ श्री साईं बाबा की 5.25 फीट लंबी संगमरमर की मूर्ति है। दिन की शुरुआत बाबा के पवित्र स्नान से होती है और उसके बाद प्रतिदिन पांच बार प्रार्थना की जाती है। मंदिर द्वारा आयोजित भंडारे में हर गुरुवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।

नाहर सिंह क्रिकेट स्टेडियम – Raja Nahar Singh International Cricket Stadium

जाट नाहर सिंह के नाम पर, स्टेडियम को 1981 में 25,000 लोगों के बैठने की क्षमता के साथ बनाया गया था। स्टेडियम में 6 केंद्र और 3 अभ्यास पिच हैं। यह जगह साल भर बड़ी संख्या में पर्यटकों, विशेषकर क्रिकेट प्रेमियों को आकर्षित करती है। Faridabad mein ghumne ki jagah स्टेडियम में आयोजित पहला मैच 1982 की रणजी ट्रॉफी थी और 1987 में इसके पहले एकदिवसीय मैच की मेजबानी भी की थी। साथ ही, जीवित किंवदंती कपिल देव ने अपना आखिरी एकदिवसीय मैच इसी स्टेडियम में खेला था।

यह भी पढ़े: जानें 5 ऐसे जगहों के नाम, जो गर्मी की छुट्टियों

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here