आइये जानते हैं डोमेन नेम के बारे में

0
634
Domain Name Kya Hai

Domain Name Kya Hai:- जब कोई पर्सन आपके घर के बारे में पूछता है तब आप उसे अपने घर के बारे में सारी जानकारी देते हैं जैसे की घर का एड्रेस और पिन कोड और जिले का नाम और राज्य का नाम इनके माध्यम से ही कोई व्यक्ति आपसे कम्युनिकेट कर सकता है। इसी प्रकार इंटरनेट पर भी सबका अपना एक यूनिक घर होता है जो एक खास नाम सर्च करके ही वह उस घर पर विजिट कर सकता है जैसे कि यदि नाम यूनिक नहीं रहेगा वह किसी अन्य घर पर पहुंच जाएगा। इसी प्रकार डोमेन नाम भी यूनिक होना चाहिए जिससे कोई भी विजिटर आसानी से आपकी वेबसाइट पर पहुंच जाए इसके लिए सबसे पहले जान लेते आखिरकार डोमेन नेम होता क्या है?

डोमेन नेम होता क्या है?:

डोमेन नेम एक ऐसा यूनिक नाम होता है जो इंटरनेट की दुनिया में अपने स्पेशल नाम से पहचाना जाता है इतना ही नहीं आप डोमेन नेम का इस्तमाल करके आसानी से किसी भी वेबसाइट को विकसित कर सकते हैं यदि एक शब्दों में कहा जाए तो डोमेन नेम आपकी वेबसाइट का एक यूनिक नाम होता है जो भी डिजिटल आपकी वेबसाइट पर जाना चाहता है तो वह आपके ब्राउज़र लिंक के माध्यम से जा सकता है या तो डोमेन नेम के माध्यम से, ध्यान देने वाली बात ये भी है कि इंटरनेट की दुनिया में कभी भी दो वेबसाइट का नाम एक सा नहीं होता है बल्कि अलग-अलग होता है जैसे- yourvoicestory.com, drishtiias.com

यदि आपको हेल्थ से रिलेटेड और धर्म से रिलेटेड जानकारी चाहिए तो आप yourvoicestory.com पर विजिट कर सकते हैं यदि आपको आईएएस पीसीएस बनना है तो आप दृष्टि आईएएस की वेबसाइट पर नी संकोच विजिट कर सकते हैं।

Domain Name Kya Hai डोमेन नेम के कितने पार्ट्स होते हैं?:

(1) (.) से पहले का भाग

डोमेन नेम का एक पार्ट डाट से पहले होता है जिसको हम अपने अनुसार नाम देते हैं जैसे- yourvoicestory

(2) (.) की बाद का भाग

डोमेन नेम का दूसरा भाग फिक्स रहता है इसे हम अपने मन के अनुसार नहीं बना सकते हैं वह हमें नाम उसी वेबसाइट से मिलेगा जिस वेबसाइट से हम डोमेन नेम परचेज करते हैं जैसे- .Com, .In,

कैसे वर्क करता है डोमेन नेम:

कंप्यूटर की अपनी एक भाषा होती है। वह हमारी भाषा को अपनी भाषा में कन्वर्ट करके रिजल्ट को देता है जैसे कि मान लीजिए आपने एक वेबसाइट yourvoicestory.com नमक गूगल पर सर्च की अब गूगल इस वेबसाइट को आईपी एड्रेस में कन्वर्ट करके रिजल्ट देगा। आपको बता दे की हर डोमेन नेम का या हर वेबसाइट का एक यूनिक आईपी एड्रेस होता है और कंप्यूटर इस आईपी एड्रेस को रीड करता है और तब रिजल्ट देता है।

डोमेन नेम कितने प्रकार के होते हैं?:

(1) टॉप लेवल डोमेन नेम

Com, Org, Net, Gov, Biz, Edu, Info

(2) कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन नेम

Us (United States), In (India), Ch (Chaina), Uk (United Kingdom), Ru (Russia)

(3) सबडोमेन

सबडोमेन टॉप लेवल डोमेन नेम और कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन का डिवीजन है अर्थात इन नाम का यूज करके आप सब डोमेन बना सकते हैं जैसे- एक वेबसाइट है yourvoicestory.com आप इसे सब डोमेन में इस प्रकार से डिवीजन कर सकते हैं- your.voicestory.com या yourvoice.story.com सब डोमेन के लिए अलग से ₹1 भी नहीं लिया जाता है।

डोमेन नेम कहां से परचेज करें?:

(1) Godaddy

(2) Bigrock

(3) Namecheap

(4) hostinger

डोमेन नेम खरीदते समय रखे सावधानियां:

(1) सबसे पहले जो भी आप डोमेन नेम खरीद रहे हैं वह डोमेन नेम यूनिक और छोटा होना चाहिए जिससे कोई भी डिजिटल आसानी से आपकी डोमेन नेम को याद कर सके

(2) हमेशा टॉप लेवल डोमेन नाम ही खरीदें क्योंकि ग्लोबल लेवल पर यही टॉप लेवल डोमेन नाम ही आपको नाम और शोहरत दिलवा सकता है।

(3) डोमेन नेम में डिजिट का उपयोग करने से बचे

(4) आप जिस केटेगरी से रिलेटेड कंटेंट प्रोवाइड करने वाले हैं उसी कंटेंट से रिलेटेड आपका डोमेन नाम होना चाहिए।

निष्कर्ष:

Domain Name Kya Hai:- डोमेन नेम एक प्रकार का यूनिक नाम होता है जिससे हम वेबसाइट पर आसानी से विजिट करके जा सकते हैं और वहां प्रोवाइड कराई जा रही सर्विस का बेनिफिट उठा सकते हैं।

Faq:

(1) डोमेन नेम सिस्टम क्या है?

डोमेन नेम सिस्टम इंटरनेट एड्रेस याद करने का एक मीडियम है।

(2) डोमेन का नाम कैसे रखना चाहिए?

जब भी आप डोमेन नेम परचेज कर रहे हो तब ध्यान देने वाली बात यह है कि डोमेन नेम छोटा हो और यूनिक हो और साथ ही साथ कंटेंट से रिलेटेड हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here