अशोक के पेड़ के फायदे

0
1973
Ashok ke Ped ke Fayde

अशोक का पेड़ प्राचीन काल से अपने दिव्य औषधि गुणों के कारण जनमानस में प्रचलित रहा है

Ashok Tree Benefits in Hindi: अशोक का पेड़ धार्मिक और स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बहुत ही लाभप्रद माना जाता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार जिस घर में उत्तर दिशा में अशोक का पेड़ होता है। उस घर में सुख समृद्धि बढ़ती है और वहां लक्ष्मी का वास होता है। अशोक का अर्थ होता है किसी भी प्रकार का शोक न करना। त्रेता युग में सीता हरण के दौरान माता सीता एक वर्ष तक अशोक वाटिका में अशोक के पेड़ के नीचे ही भगवान राम की प्रतीक्षा में बैठी रही। जिस घर में अशोक का पेड़ रहता है वहां पर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है और नकारात्मक ऊर्जा का ह्रास होता है। एक स्रोत के अनुसार गौतम बुद्ध का जन्म भी अशोक वृक्ष के नीचे ही हुआ था। इतना ही नहीं यह स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी अत्यंत लाभप्रद है। इससे शरीर में होने वाले रोगों से छुटकारा मिलता है आइए सबसे पहले जानते हैं अशोक के पेड़ के विषय में।

Ashok Tree Benefits in Hindi | आइए अब जानते हैं कि अपने चमत्कारी गुणों से सबको हैरतंगेज करने वाले अशोक के पेड़ के विषय में:

अशोक के पेड़ की रूपरेखा आम के पेड़ की तरह ही है इसकी न्यूनतम ऊंचाई 25 फुट और अधिकतम ऊंचाई 30 फुट होती है अशोक के पेड़ का पल्लव 9 इंच लंबा होता है। पल्लो की बनावट गोला कार में होता है। इसमें फल बसंत ऋतु में आता है। इसके फल की लंबाई 8 से 9 इंच तक होती है जब सिल्क अच्छा रहता है उसका रंग जामुनी रहता है और फल पकने के बाद काले रंग का हो जाता है।

विविध प्रधान वाले भारत देश में अशोक के पेड़ों को और किस नाम से जाना जाता है:

(1) अस्पाल

(2) अशोक

(3) आसोपालव

(4) होगास

(5) जेनीशिया अशोका

(6) स्राका इंडियन

अशोक के पेड़ में ऐसे कौन-कौन से कंपाउंड पाए जाते हैं जो मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है:

(1) प्रोटीन

(2) टैनिन

(3) एल्केलाइड

(4) कार्बोहाइड्रेट

(5) ग्लाइकोसाइड

(6) सैपोनिन

दिव्य गुणों से परिपूर्ण अशोक के पेड़ के फायदे क्या है?

(1) महिलाओं के अनेक बीमारियों को ठीक करने में सहायक

एक शोध के अनुसार यदि जो महिला अशोक के पेड़ की छाल का उपयोग अपने प्रतिदिन के दिनचर्या में करती है उसे मासिक चक्र से संबंधित जो समस्या है और साथ ही साथ उसके जोड़ों में जो दर्द है, गर्भधारण करने में समस्या हो रही है और इसके अलावा अंडाणु नहीं बन रहे हैं इन सब समस्याओं से निजात दिलाता है अशोक का पेड़।

(2) स्किन को ताउम्र तक जवां बनाने में सहायक

Ashok ke Ped ke Fayde

अशोक के फूल में फ्लेवोनॉयड्स नामक कंपोनेंट पाया जाता है। जो स्किन में पड़ने वाली झुर्रियों से राहत दिलाता है। जिसके परिणाम स्वरूप आपका स्किन ता उम्र तक जवां दिखता है इसके अलावा यहां के रंग को भी साफ करता है। गौरतलब यह स्किन के रंग को साफ करता है ना कि काले को गोरा बनाता है।

(3)  जोड़ो के दर्द से निजात

अशोक के पेड़ में एनाल्जेसिक के गुण पाए जाते हैं जो असमय जोड़ों में होने वाले दर्द को ठीक करता है। यदि प्रतिदिन अशोक के पेड़ की छाल को गर्म पानी में छानकर उसका सेवन किया जाए तो यह जोड़ों के दर्द से राहत दिला सकता है। लेकिन इसका अधिक सकारात्मक परिणाम तब मिलता है जब छाल को पीसकर के उसका लेप प्रभावित जगह पर लगाया जाए तो तो काफी हद तक निजात मिलता है।

(4) अनियमित रक्तस्राव को रोके

किसी- किसी महिला में एस्ट्रोजन हार्मोन के अधिक स्रावण के कारण गर्भाशय पर रक्त स्रावित होने लगता है। लेकिन यदि अशोक के पेड़ की छाल का उपयोग किया जाए तो इससे निजात मिल सकता है क्योंकि अशोक के पेड़ की छाल में एंटी एस्ट्रोजेनिक गुण पाया जाता है।

(5) मधुमेह रोग को भी नियंत्रित करता है

अशोक के पेड़ में हाइपो ग्लाइसेमिक नामक गुण पाया जाता है जो ब्लड शुगर को कम करने में सहायक है जो शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ा करके खून में शुगर को कम करने में सहायक है।

(6) बवासीर की बीमारी को करे छूमंतर

अशोक के पेड़ और फूल में ऐसे-ऐसे कंपाउंड पाए जाते हैं जो बवासीर को ठीक करने में अपनी अहम भूमिका निभाते हैं। यदि इसका सेवन किया जाए तो कुछ दिनों में बवासीर से राहत मिल सकती है।

(7) शरीर में होने वाले सूजन को भी ठीक करता है

अशोक के पेड़ में anti inflementri गुण पाया जाता है जो शरीर के किसी भाग में सूजन हो जाए तो सूजन को ठीक करता है बस प्रभावित जगह पर अशोक के पेड़ की छाल का लेप लगाना है।

अशोक के पेड़ का उपयोग किस रूप में करें?

अशोक के पेड़ का उपयोग आप रोगों के अनुसार कर सकते हैं। जिस प्रकार का रोग है। उसी के अनुसार उपयोग कर सकते हैं। यदि आपको इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग करना है तो इसके लिए आप प्रतिदिन इसके काढ़े उपयोग करिए। इसके अलावा इसका छाल और अशोक के पेड़ के फूल का अर्क उपयोग किया जा सकता है।

 हमारे शरीर पर क्या दुष्प्रभाव पड़ता है अशोक के पेड़ के सेवन के परिणाम स्वरूप

वैसे तो आयुर्वेदिक औषधियों का सेवन के पश्चात हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन किया जाए तो यह हमारे शरीर के लिए अनुपयोगी हो सकता है। लेकिन ध्यान देने योग्य बात यह है कि कुछ विशेष परिस्थितियों में इसका सेवन नहीं करना चाहिए जैसे कि जिस व्यक्ति का ब्लड प्रेशर अनियमित हो उसे सेवन नहीं करना चाहिए और साथ ही साथ गर्भवती महिला को भी इसके सेवन से बचना चाहिए।

FAQ:

(1) भारत के किस स्थान पर बहुतायत मात्रा में अशोक का पेड़ पाया जाता है

भारत के महाराष्ट्र प्रांत के मुंबई जिले के उपमहाद्वीप के पश्चिमी तट पर अशोक का पेड़ बहुतायत मात्रा में पाया जाता है।

(2) अशोक का पेड़ पवित्र क्यों माना जाता है

यह पेड़ पवित्र इसलिए माना जाता है क्योंकि यह भगवान कामदेव से जुड़ा हुआ है। अशोक के पेड़ का फूल का उपयोग कामदेव अपने तरकश की सहायता से किसी को मंत्रमुग्ध करने के लिए उपयोग करते हैं।

(3) अशोक का पेड़ कितने घंटे ऑक्सीजन देता है

अशोक का पेड़ इको फ्रेंडली है जो 22 घंटे अनवरत ऑक्सीजन देता है।

(4)  अशोक के पेड़ पर जल अर्पित करने से क्या फायदा मिलता है?

यदि प्रतिदिन कोई भी व्यक्ति सच्चे मन से अशोक के पेड़ पर जल अर्पित करता है तो उस घर में लक्ष्मी का वास हो जाता है और घर धन और धान्य से परिपूर्ण हो जाता है।

निष्कर्ष:

अशोक का पेड़ हमारे जीवन में सुख और समृद्धि लाता है। जिससे हम एक स्वस्थ जीवन जी सके। इसमें ऐसे अनेकों कंपाउंड पाए जाते हैं जो हमारे स्वास्थ्य से जुड़ी जो कोई भी समस्या हो उससे निजात दिलाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here