एंटी एजिंग आंवला से होने वाले फायदे क्या – क्या है

0
1927
Amla ke Fayde

Amla ke Fayde: चरक संहिता के अनुसार आंवला बढ़ती उम्र को कम करने वाला और कुष्ठ रोगों को ठीक करने वाला इसके अलावा शरीर में वात ,पित्त और कफ का संतुलन बनाने वाला एक ऐसा औषधि फल है अपने दुर्लभ गुणों के कारण इसे अन्य फलों से अनूठा बनाता है। आंवला में जितना विटामिन सी पाया जाता है उतना विटामिन 20 नींबू में पाया जाता है। सबसे ज्यादा विटामिन सी आंवला में पाया जाता है। कई रिसर्च बताते हैं कि आंवला का सेवन करने वाले व्यक्तियों को चेहरे पर कभी झुर्रियां नहीं पड़ती है चेहरा खिला खिला सा रहता है, यह बालों के लिए भी किसी वरदान से कम नहीं है क्योंकि इसमें विटामिन सी और आयरन पाया जाता है जो बालों को आवश्यक पोषक तत्व उपलब्ध कराते हैं। इतना ही नहीं आंवला पाचन क्रिया को सुचारू ढंग से चलाने के लिए आवश्यक एंजाइम को स्रावित कराने में सहयोग प्रदान करते हैं।

Amla ke Fayde

एंटी एजिंग आंवला क्या है?

आंवला का वैज्ञानिक नाम फ़िलैंथस एँबेलिका है। आंवला को संस्कृत भाषा में अमृत फल, आमलकी और पँचरसा के नाम से जाना जाता है। आंवला की खेती एशिया महाद्वीप के हिमालय के क्षेत्र में और प्रायद्वीपीय भारत में भरपूर मात्रा में किया जाता है। इसके अलावा यूरोप और अफ्रीका महाद्वीप में भी इसकी खेती की जाती है। आंवला का फल देखने में हरा रंग का और उसके फल पर धारीदार बना रहता है और फल का आकार छोटा रहता है। लेकिन कुछ जेनेटिक मॉडिफाइड आंवला की प्रजातियों में अब आंवला का सामान्य आकर अन्य की अपेक्षा बड़ा होता है। यदि देखा जाए तो आंवला के वृक्ष की न्यूनतम ऊँचाई 20 फिट और अधिकतम ऊंचाई 25 फीट तक होती है। उत्तर प्रदेश का प्रतापगढ़ जिला आंवला की खेती के लिए प्रसिद्ध है यहां पर आंवला से संबंधित उत्पाद जैसे मुरब्बा और अचार और इसके अलावा हलवा आदि तरह-तरह के आंवला से बने उत्पाद देखने को मिल जाएंगे।

Amla ke Fayde

आंवला में पाए जाने वाला पोषक तत्व कौन- कौन सा होता है?

(1) कैल्शियम

(2)वसा

(3)प्रोटीन

(4)जिंक

(5)आयरन

(6)विटामिन सी

(7)फास्पोरस

(8)कार्बोहाइड्रेट

(9) गैलिक एसिड

(10) टैनिक एसिड

(11)शर्करा

(12)निकोटिनिक एसिड

आंवला के सेवन के पश्चात इससे होने वाले फायदे क्या- क्या होते हैं?

(1) वजन को कम करने में सहायक

इंडियन काउंसिल आप मेडिकल रिसर्च ने चूहे पर रिसर्च किया। जिसके परिणाम स्वरुप यह पाया गया कि आंवला में एंटी ओबेसिटी का गुण पाया जाता है अर्थात मोटापा को कम करने वाला गुण पाया जाता है। इसी बेस पर यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि इसके सेवन के पश्चात कोई मोटा व्यक्ति पतला हो सकता है। बस ध्यान देने वाली बात यह है कि वह व्यक्ति आंवला के सेवन के पश्चात प्रतिदिन व्यायाम और ध्यान भी करें। जिससे सकारात्मक परिणाम मिल सके।

(2) हार्ट के स्वास्थ्य के लिए भी लाभप्रद है

हार्ट यदि स्वस्थ रहता है तब हमारे शरीर की सारी गतिविधियां नियंत्रित रहती है और हम कई बीमारियों से बचे रहते हैं। हार्ट की बीमारियां आजकल 100 व्यक्तियों में से लगभग 12 व्यक्तियों को असमय यह बीमारी हो जा रही है इसकी चपेट में आए व्यक्ति या  तो जिंदगी भर दवा के सहारे जीते हैं या उनकी मृत्यु हो जाती है। हालांकि आपको बताने वाली मुख्य बात यह है कि इंडियन जनरल ऑफ फार्मोकोलॉजी द्वारा आंवला पर एक रिसर्च किया गया था जिसके अनुसार यह देखा गया कि यह लिपिड के लेवल को भी कम करता है साथ ही साथ इसमें एंटी ब्लड प्रेशर का भी गुण देखा गया है जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है जिससे हमें हार्ट अटैक की प्रॉब्लम नहीं होती है।

Amla ke Fayde

(3) ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है

आंवला में गैलिक एसिड और टैनिक एसिड पाया जाता है जो एंटीऑक्सीडेंट का कार्य करता है।फादर म्यूलर मेडिकल कॉलेज की रिसर्च डेवलेपमेंट सेल के द्वारा आंवला पर रिसर्च किया गया है। जिससे यह निष्कर्ष निकाला गया कि आंवला में गैलिक एसिड और टैनिक एसिड की अधिक पाए जाने के कारण यह एंटीऑक्सीडेंट का कार्य तो करता ही है और साथ ही साथ इस एंटीऑक्सीडेंट के कारण इसमें anti-diabetic का गुण भी पाया जाता है जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है।

(4) यूरिनरी की प्रॉब्लम से राहत दिलाता है

बढ़ती उम्र के साथ यूरिनेशन भी बुजुर्ग व्यक्तियों के लिए एक परेशानी का बहुत बड़ा सबब है। यूरिनेशन नहीं हो पाने के कारण बहुत सारी समस्याएं होने लगती हैं। यूरिनेशन इसलिए सही से नहीं हो पाता है क्योंकि जो प्रोटेस्ट ग्रंथि होती हैं। उसमें सूजन आ जाती है। जिसके परिणाम स्वरूप यूरिनेशन सुचारू रूप से नहीं हो पाता है। हालांकि आपको बता दे कि आंवला में ऐसे- ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो प्रोटेस्ट ग्रंथि के सूजन को कम करते हैं। जिससे आपको यूरिनेशन की कोई प्रॉब्लम ना हो आंवला का सेवन करने वाला व्यक्ति ता उम्र कभी भी यूरिनरी की प्रॉब्लम से नहीं गुजरता है।

(5) पाचन क्रिया को स्ट्रांग करता है

कई शोधों में प्रकाशित हो चुका है कि आंवला में भूख बढ़ाने वाला और खराब पाचन क्रिया को दुरुस्त करने वाला गुण पाया जाता है। आंवला के सेवन के पश्चात यदि कोई व्यक्ति गैस की प्रॉब्लम से परेशान है अब उसको भविष्य में गैस की समस्या नहीं होगी।

(6) रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है

जर्नल ऑफ फार्माकोग्नॉसी एंड फाइटोकेमिस्ट्री के द्वारा आंवला पर रिसर्च किया गया है।इस रिसर्च यह निष्कर्ष निकाला गया कि आंवला में एंटीऑक्सीडेंट का गुण पाया जाता है जो न केवल रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है अपितु डब्ल्यूबीसी की की संख्या को भी बढ़ाता है।

(7) क्षणभंगुर हड्डियों को करें स्ट्रांग

आंवला में भरपूर मात्रा में फास्फोरस पाया जाता है जो हड्डियों को स्ट्रांग करता है जो बढ़ती उम्र के साथ हड्डियां क्षणभंगुर होती जाती है वह अब नहीं होगा। इसके अलावा आंवला में एंटी इन्फ्लेमेटरी का गुण पाया जाता है जो हड्डियों में सूजन हो जाता है उस सूजन को खत्म कर देता है।  विटामिन सी भी हड्डियों के लिए लाभप्रद है यह भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

(8) हेयर फॉल को कम करता है

आंवला में विटामिन सी और आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो हेयर फॉल को कुछ हद तक कम करता है।

Amla ke Fayde

आंवला की सेवन के पश्चात इससे होने वाले दुष्प्रभाव क्या-क्या होता है?

(1) लो ब्लड प्रेशर के रोगियों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

(2) डायबिटीज के रोगी यदि डायबिटीज के लिए दवा खा रहे हैं तब वह आंवला का सेवन करने से पहले डॉक्टर से अवश्य ही परामर्श ले। उसके बाद ही सेवन करें क्योंकि आंवला में एंटी डायबिटिक का गुण पाया जाता है।

(3) गर्भवती महिलाओं को आंवला का सेवन करने से पहले डॉक्टर से अवश्य परामर्श लेना चाहिए।

(4) जिस व्यक्ति को एलर्जी की प्रॉब्लम है। उसको आंवला का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए।

आंवला का सेवन किस- किस रूप में किया जा सकता है

(1) आंवला का सेवन आंवला का जूस बनाकर उपयोग किया जा सकता है जो कब्ज गैस के लिए काफी लाभप्रद है।

(2) आंवला का सेवन आंवला की चटनी के रूप में भी किया जा सकता है।

(3) आंवला के हलवा के रूप में भी उपयोग किया जा सकता है।

(4) आंवला का सेवन मुरब्बा के रूप में भी किया जा सकता है। यदि आप अपने प्रतिदिन के आहार में आंवला को शामिल करना चाहते हैं। तब आप मुरब्बा का सेवन करिए। आंवला का मुरब्बा खाने में बहुत ही स्वादिष्ट लगता है। इसके स्वाद के साथ इसके दुर्लभ गुण आपको हेल्थी रखेंगे।

निष्कर्ष:

Amla ke Fayde: आंवला को आयुर्वेद में अमृतफल कहा जाता है। यह अमृत फल हमारे शरीर में हुए विकारों को और होने वाले भविष्य के विचारों को से छुटकारा दिलाता है। चरक संहिता में इसे एंटी एजिंग के नाम से भी जाना जाता है।

FAQ:

(1) 1 दिन में कितने आंवले खा सकते हैं?

आयुर्वेद के अनुसार 1 दिन में एक आंवला खाया जा सकता है जो स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से अच्छा माना जाता है।

(2) खाली पेट सुबह आंवला खाने से क्या होता है?

खाली पेट सुबह आंवला खाने से इम्यून सिस्टम स्ट्रांग होता है और इसके अलावा शरीर से विषाक्त पदार्थों को भी निष्कासित करता है।

(3) रोजाना आंवला खाने से क्या होता है?

रोजाना आंवला खाने से बाल नहीं झड़ते हैं और पेट में गैस नहीं होते हैं और वजन नहीं बढ़ता है चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़ती है।

(4) आंवला को किस दिन नहीं खाना चाहिए?

वास्तु शास्त्र के अनुसार रविवार और शुक्रवार के दिन आंवला का सेवन नहीं करना चाहिए।

(5) रात में आंवला का सेवन क्यों नहीं करना चाहिए?

रात में आंवला का सेवन इतनी नहीं करना चाहिए क्योंकि आंवला की तासीर ठंडी होती है जिसके परिणाम स्वरूप सर्दी जुकाम होने की संभावना हो सकती है।

(6) आंवला खाने के बाद क्या खाना चाहिए?

आंवला खाने के बाद भरपूर मात्रा में पानी का सेवन करना चाहिए नहीं तो डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।

(7) आंवला की तासीर कैसी होती है?

आंवला की तासीर ठंडी होती है

(8) आंवला में कौन सा विटामिन पाया जाता है?

आंवला में विटामिन सी पाया जाता है।

(9) आंवला का जूस कब नहीं पीना चाहिए?

जिस व्यक्ति को एसिडिटी की समस्या और लो ब्लड प्रेशर की समस्या है उसे आंवला का जूस नहीं पीना चाहिए।

(10) आंवला खाने के बाद मीठा क्यों लगता है?

आंवला में साइट्रिक एसिड पाया जाता है। जिसके परिणाम स्वरूप आंवला का स्वाद खट्टा होता है। जब आप इसे चबा- चबा कर खाते हैं तो लार में पाए जाने वाला एंजाइम एमाइलेज एंजाइम और स्टार्स की अभिक्रिया के परिणाम स्वरूप यह शर्करा में बदल जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here