साउथ के प्रसिद्ध डायरेक्टर यम राजमौली के निर्देशन में  “रिवेंज रोर रिवॉल्ट” मूवी 25 मार्च 2022 को रिलीज होने वाली है। यह मूवी अल्लूरी सीताराम राजू (Alluri Sitarama Raju) के संघर्ष जीवन के ऊपर आधारित है। तो ऐसे में यह प्रश्न उठ जाता है कि अल्लूरी सीताराम राजू कौन है? हमारे भारत में बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो अल्लूरी सीताराम राजू के विषय में ज्यादा नहीं जानते हैं।

आज हम आपको अल्लूरी सीताराम राजू के विषय में पूरी जानकारी देंगे

अल्लूरी सीताराम राजू कौन थे?

उनका स्वतंत्रता संग्राम में योगदान क्या था?

उनके माता-पिता का क्या नाम था? आदि जानकारी दी जाएगी।

अल्लूरी सीताराम राजू कौन थे ? (Who is Alluri Sitarama Raju |  Alluri Sitarama Raju koun the)

alluri-sitarama-raju-Biography-in-hindi

अल्लूरी सीताराम राजू भारत के एक स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने अपने प्राणों की बिना चिंता किए हुए। भारत माता को अंग्रेजों से आजाद कराने के लिए अंतिम सांस तक लड़ते रहे।

लड़ते -लड़ते ही 7 मई 1924 को शहीद हो गए। अल्लूरी सीताराम राजू का जन्म 15 मई 1897 को आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम जिले के पांडुरंगी गांव में हुआ था।

अल्लूरी सीताराम राजू एक क्षत्रिय परिवार से संबंध रखते थे। अल्लूरी सीताराम राजू को भौतिक चीजों में ज्यादा रुचि नहीं था। उन्हें अल्पकाल में ही वैदिक ग्रंथों और ज्योतिष शास्त्रों के अध्ययन के बाद अध्यात्म में रूचि हो गई है।

जिसके परिणाम स्वरुप वह 18 साल की अल्पायु में साधु बन गए।

अल्लूरी सीताराम राजू के माता-पिता का क्या नाम था? ( Alluri Sitarama Raju ke Maa ka naam| papa)

अल्लूरी सीताराम राजू के माता पिता का नाम क्रमश:सूर्यनारायणाम्मा और वेक्टराम राजू था इनकी मृत्यु अल्लूरी सीताराम राजू के जन्म के कुछ समय बाद ही हो गई थी, जिसके परिणाम स्वरूप अल्लूरी सीताराम राजू अपने पिता के प्रेम से वंचित हो गए थे और साथ ही साथ परिवार की परिस्थिति के कारण उनकी उच्च शिक्षा नहीं हो सकी।

अल्लूरी सीताराम राजू की विशेषता क्या थी?

(1) अल्लूरी सीताराम राजू की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वह अल्प समय में ही मुंबई और बड़ोदरा और साथ ही साथ बनारस ऋषिकेश बंगाल और नेपाल की यात्रा की जिसके परिणाम स्वरूप वह भारत की परिस्थिति को अच्छी तरह से समझ सके।

(2) अल्लूरी सीताराम राजू की एक विशेषता और याद थी कि वह तीरंदाजी और साथ ही साथ घुड़सवारी और ज्योतिष शास्त्र और प्राचीन शास्त्रों अध्ययन में अल्लूरी सीताराम राजू को महारत हासिल थी।

(3) अल्लूरी सीताराम राजू काली मां के उपासक थे। जिसके परिणाम स्वरूप वह काली मां के आशीर्वाद से ही अंग्रेजों से लोहा लेने में सक्षम हो सके।

अल्लूरी सीताराम राजू का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में योगदान, (Alluri Sitarama Raju in Freedom Struggle)

अल्लूरी सीताराम राजू बाल्यकाल से ही अंग्रेजों द्वारा मनमाने तरीके से आदिवासियों द्वारा लगान वसूलने हेतु किये जाने वाले अत्याचार को देखा था।

इस अत्याचार का कारण था अंग्रेज सूखे की स्थिति में भी दोगुना लगान आदिवासियों से वसूलते थे जब आदिवासी लगान देने में अक्षम हो जाते थे तब उनके ऊपर तरह-तरह के जुल्म करते थे जैसे कि या तो किसान की परिवार को पेड़ से लटका कर फांसी पर चढ़ा देते थे या तो गोली मार देते थे या तो उनकी पीठ पर कूड़ा बरसाते थे यह सब दृश्य देखकर अल्लूरी सीताराम राजू आदिवासियों की मदद करने के लिए तत्पर हुए और आदिवासियों से विनती की वाह मध्य पान का सेवन छोड़ दें और अपनी समस्या का समाधान पाने के लिए पंचायत से संपर्क करें।

और साथ ही साथ अंग्रेजों से जमकर लड़े अल्लूरी सीताराम राजू ने अंग्रेज शासन की दर को आदिवासी के हृदय से निकाल फेंका और महात्मा गांधी की असहयोग आंदोलन में बढ़-चढ़कर के भाग लेने के लिए लोगों को प्रेरित किया अपनी अदम्य साहस के कारण अपनी वीरता का परचम लहराने वाले अल्लूरी सीताराम राजू के विषय में महात्मा गांधी ने कहाँ है कि “उस वीर का त्याग और बलिदान और साथ ही साथ मुसीबतों से भरा जीवन और सच्चाई और सेवा भाव और लगन निष्ठा और अदम्य साहस हमारे लिए प्रेरणाप्रद है”

अल्लूरी सीताराम राजू का निधन कैसे हुआ? (Alluri Sitarama Raju Death Reason)

अल्लूरी सीताराम राजू का निधन 7 मई 1924 को हुआ कोय्यूरू मद्रास प्रेसीडेंसी के चिंतपल्ले के जंगलों में फंसने के कारण अंग्रेजों ने अल्लूरी सीताराम राजू को पेड़ से बांधकर गोली मारकर उनकी निर्मम हत्या कर दी।

निष्कर्ष :

अल्लूरी सीताराम राजू Alluri Sitarama Raju भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी है। उन्होंने अंतिम सांस तक अंग्रेजों से जमकर मुकाबला किया। इसका प्रमाण यह है कि चिंतपल्ले के जंगलों में फँसने के  कारण वह अंग्रेजों के सामने समर्पण नहीं किया। बल्कि अंग्रेजों से अंतिम सांस तक लड़ते रहे और अंततः ईस्ट कोस्ट स्पेशल पुलिस चीफ कुंचू मेनन ने अल्लूरी सीताराम राजू की गोली मारकर हत्या कर दी।

सामान्य प्रश्न,

(1)अल्लूरी सीताराम राजू क्यों प्रसिद्ध थे?

अल्लूरी सीताराम राजू भारत के  महान स्वतंत्रता संग्रामियों में  से एक थे। और उनके व्यक्तित्व पर महात्मा गांधी के विचारों का गहरा प्रभाव पड़ा। जिसके परिणाम स्वरूप उन्होंने आदिवासी समुदाय से आग्रह किया कि वह मद्यपान का निषेध करें।

(2) अल्लूरी सीताराम राजू को गोली किसने मारी?

अल्लूरी सीताराम राजू को गोली कुंचू मेनन ने मारी कुंचू मेनन ईस्ट कोस्ट स्पेशल पुलिस के चीफ थे।

(3) अल्लूरी सीताराम राजू की व्यक्तिगत रूचि क्या थी?

अल्लूरी सीताराम राजू ने अपनी शिक्षा के साथ अपनी व्यक्तिगत रूचि के कारण तीरंदाजी और वैद्यक शिक्षा भी प्राप्त की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here