40 के बाद का जीवन कैसा होना चाहिए

0
2136
40 ke baad ka jivan

40 ke Baad ka Jivan: गोविंदा की एक मूवी है नॉटी एट फोर्टी जिसमें गोविंदा को रात में चलने की बीमारी रहती है। यह मूवी यह संकेत देता है कि 40 के बाद का उम्र एक छोटे बच्चे की तरह हो जाता है एक ऐसा छोटा बच्चा जो शरारती के अलावा जिम्मेदारी और अपने कामों के प्रति सजग रहता है। 40 के बाद का जीवन यदि आप चाहते हैं अच्छा सा बीते तो इसके लिए आपको पढ़ाई करनी पड़ेगी। जिससे आपको नौकरी मिले। नौकरी के माध्यम से जो सैलरी मिलेगी आप उसका उपयोग करके अपने परिवार की आजीविका चला सकते हैं और उसके अलावा अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दे सकते हैं और अच्छे स्वास्थ्य की सुलभता भी करवा सकते हैं। आज हम इस आर्टिकल में  चर्चा करने वाले हैं की  40 के बाद का जीवन कैसे होना चाहिए?

नॉटी एट फोर्टी

40 ke Baad ka Jivan कैसा होना चाहिए?

(1) 40 के बाद का जीवन एक ऐसा जीवन होता है जिसमें व्यक्ति अपनी जवानी को पार करके बुढ़ापे की दहलीज पर खड़ा होता है। यदि इस जीवन को संयम पूर्वक से नहीं दिया जाए तो तमाम समस्याएं हो सकती है जैसे आपको बीमारी हो सकती है क्योंकि आपका इम्मयून सिस्टम वीक हो सकता है।

(2) 40 के बाद का जीवन जिम्मेदारियों से भरा रहता है इसके लिए आपको अपने परिवार की सारी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दिन-रात परिश्रम करना पड़ेगा और इसके अलावा आपको अपने बच्चे की शिक्षा पर भी ध्यान देना रहेगा।

(3) यदि आप चाहते हैं 40 वर्ष के बाद आप निरोग रहे इसके लिए आप योग और ध्यान करें। योग से आपका शरीर मजबूत होगा और ध्यान से आपका आत्मबल मजबूत होगा। जिसके परिणाम स्वरूप शरीर और आत्म बल के संतुलन से आप एक निरोगी जीवन जी सकते हैं।

योग

(4) 40 की उम्र के बाद आदमी थोड़ा चिड़चिड़ा होने लगता है। इसके लिए वह ज्यादा से ज्यादा समय अपने परिवार के साथ व्यतीत करें और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट से दूर रहे। जब उसका सामाजिक सरोकार प्रतिदिन होता रहेगा उसके अंदर से चिड़चिड़ापन खत्म होता जाएगा।

(5) यदि आप चाहते हैं कि आपका वृद्धावस्था सुखमय व्यतीत हो तो इसके लिए आप म्यूच्यूअल फंड या जीवन बीमा में निवेश करिए। जिसके परिणामस्वरूप जब वृद्ध हो जाए यह पैसा आपकी सहारे की लाठी बने क्योंकि इस आर्थिक में सबसे बड़ा रुपैया है रुपया से बड़ा कोई चीज नहीं है।

(6) जब आपकी उम्र 40 साल हो जाए और आप चाहते है कि 40 की उम्र से पहले आपने जो संघर्ष किया है। यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा आपकी तरह संघर्ष ना करें। वह आपकी तरह एक सुख में जीवन व्यतीत करें इसके लिए आप अपने बच्चे को एजुकेशन के साथ-साथ वोकेशनल एजुकेशन की शिक्षा भी दीजिए जिससे वह आत्मनिर्भर बन सके और अपनी आजीविका चलाने के लिए सक्षम हो सके और सरकारी नौकरी पर निर्भर ना रहे।

(7) यदि आप चाहते हैं कि 40 के बाद का जीवन आपका अच्छा हो तो इसके लिए आप शहर से पलायन करके किसी नजदीकी गांव में बस जाइए क्योंकि गांव में रहने से आपके अंदर दृढ़ संकल्प और जीवन जीने के लिए कई नए नए बहाने भी मिलते रहेंगे या एक अच्छा विकल्प है।

40 वर्ष के बाद यदि आप एक निरोग जीवन जीना चाहते हैं तो इसके लिए आप निम्नलिखित बातों को फॉलो करिए जिससे आप एक निरोगी जीवन जी सके

(1) 40 वर्ष के बाद व्यक्ति को चिड़चिड़ापन और डिप्रेशन होने लगता है। यदि वह इस समय से निजात चाहता है तो इसके लिए वह ध्यान, योग और संगीत को अपने जीवन में लाए जिससे उसका जीवन स्वस्थ हो सके।

(2) 40 के बाद उम्र में यदि आप निरोगी रहना चाहते हैं तो इसके लिए अपने भोजन में विटामिन ,मिनरल्स और फैटी एसिड से युक्त भोजन को अपने प्रतिदिन के आहार में शामिल करिए। इसके लिए आप दाल और हरी पत्तेदार सब्जियां और फल का सेवन कर सकते हैं जिससे आपको जरूरत की सारी विटामिन और मिनरल्स की पूर्ति हो जाएगी।

(3) 40 के बाद की उम्र में आपको संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए और आपको फास्ट फूड और इसके अलावा मसालेदार भोजन से बचना चाहिए क्योंकि 40 की उम्र के बाद आपका लीवर इतना स्ट्रांग नहीं रहता है कि वह भोजन पचाने में सहायता प्रदान कर सकें।

(4) 40 की उम्र के बाद आपको ज्यादा शारीरिक परिश्रम नहीं करना चाहिए। ज्यादा शारीरिक परिश्रम करने से बचे। क्योंकि इससे आपको ओस्टियोपोरोसिस और अर्थराइटिस जैसे रोग भी हो सकते हैं।

(5) 40 की उम्र के बाद यदि अपने आप मन को स्वास्थ रखना चाहते हैं। इसके लिए आप संगीत और अच्छी-अच्छी मोटिवेशनल बुक और उपन्यास को पढ़िए । जिससे आप समाज में चल रही जो अच्छी बातें हैं और कुरीतियां है। उससे आप परिचित हो सके और अपने यथार्थ जीवन में इसे शामिल करके जीवन को और मंगलकारी बना सकें।

निष्कर्ष:

40 वर्ष के बाद का जीवन एक संतुलनकारी जीवन होना चाहिए। जिसमें सुख- दुख का समन्वय ऐसा होना चाहिए जिससे आपके शरीर पर इसका कोई प्रभाव ना पड़े और आप एक निरोगी जीवन के हकदार हो सके।

FAQ:

(1) 40 की उम्र में क्या होता है?

40 की उम्र में छोटी-छोटी बातों को लेकर तनाव और चिड़चिड़ापन होने लगता है।

(2) 40 की उम्र के बाद क्या खाना चाहिए?

40 की उम्र के बाद पत्तेदार हरी सब्जियों का सेवन और फल का सेवन करना चाहिए अपने प्रतिदिन की आहार में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here