जानिए 9 स्किल की मदद से आप एक सफल बिजनेसमैन कैसे बन सकते है

0
531
बिजनेसमैन

भारत में दिन प्रतिदिन कोई ना कोई व्यक्ति बिजनेस करने के लिए प्लान बनाता है। लेकिन अपने प्लान को सही तरीके से वह यदि एग्जीक्यूट नहीं कर पता है असफल हो जाता है और दुनिया को ज्ञान बांटने लगता है कि भाई बिजनेस मत करो। इसमें बहुत लॉस है। देखो बिजनेस एक ऐसा मंच है जहां पर आपको लॉस होने की संभावना भी रहेगी और बेनिफिट भी होने की क्योंकि जब तक आप रिस्क नहीं लेंगे तब तक बिजनेस नहीं होगा। अब जैसे आप मान लीजिए रिलायंस जिओ ने जिओ में इन्वेस्टमेंट किया लगभग लाखों करोड़ रुपए का उन्होंने पहले शुरुआत में सबको जिओ का फ्री इंटरनेट दिया और बाद में इस जिओ इंटरनेट को चलाने के लिए रिचार्ज करवाना पड़ा तो आप समझ होंगे कि बिना रिस्क के बिजनेस नही होता है मुकेश अम्बानी को भी भय था यदि मेरा प्लान सही तरीके से एग्जीक्यूट नही हो पायेगा तो मेरा लाखो करोड़ो का घाटा हो जाएगा यह एक बिजनेसमैन की सफल कहानी है उन्होंने पहले हमको लत लगवाई फिर अपने प्रोडक्ट को सेल किया आप टीवी से लेकर के रेडियो अखबार या बैनर पर कोई न कोई एडवर्टाइजमेंट देख लेते हैं कोई ना कोई एक्टर इस प्रोडक्ट को खरीदने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। कोई व्यक्ति बिजनेस करना चाहता है वह अपने अंदर कुछ स्किल है अगर उसे स्किल पर वह काम करना शुरू कर दे तो बिजनेस में सफल हो जाता है कई लोगों के अंदर स्किल रहता हैं।

(1) जो भी बिजनेस की शुरुआत करें तो उस बिजनेस में आपको रुचि होनी चाहिए

रईस मूवी का एक डायलॉग है “कोई काम छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता” यदि आप इस बात को अच्छी तरह से समझ लेते हैं तब आप एक अच्छे बिजनेसमैन बनकर उभर सकते हैं। हमने क्या बताया कि आप जो भी कम करें उसमें आपको भरपूर मजा आना चाहिए रुचि हो जैसे आपका मनपसंद फास्ट फूड स्नैक्स और नूडल्स है तो आपको खाने में इसलिए अच्छा लगता है क्योंकि आपको रुचि है। यही रुचि आपको बिजनेस को लेकर भी दिखाना है जो भी कम आपको अच्छा लगता है वही बिजनेस आप करिए।

(2) सीखने की ललक

देखिए यदि आप बिजनेसमैन बनना चाहते हैं तो पहले आप यह तय कर लीजिए आपके अंदर सीखने की ललक है कि नहीं क्योंकि यदि आपके अंदर सीखने की ललक नहीं रहेगी तब आप एक सफल बिजनेसमैन नहीं बन पाएंगे क्योंकि सफल बिजनेसमैन वही बनता है जिसके अंदर इनोवेशन की कैपेसिटी होती है। वह हर समय यह सोचता है कि वह अपने सर्विस या प्रोडक्ट को अधिक से अधिक लोगों तक कैसे पहुंचाएं और मार्केट में जो कंपनियां प्रोडक्ट प्रोवाइड कर रही है उनसे अच्छा कैसे अपने प्रोडक्ट को बनाएं अगर यह आपके अंदर गुण है समझ लीजिए आप एक सफल बिजनेसमैन बन सकते हैं आपको हमेशा सीखना है यह नहीं कह देना है कि हमारा ही प्रोडक्ट सबसे उत्तम है और उसके बाद अपने प्रोडक्ट पर काम करना ही बंद कर देना है ऐसा नहीं करना है क्योंकि समय परिस्थिति एक सी नहीं रहती कभी।

(3) रिस्क लेने की क्षमता

यदि आप बिजनेस करने का मन पूरी तरह से बना चुके हैं तो आप यह भी जानते हैं कि बिजनेस में रिस्क लेना पड़ता है बिना रिस्क के बिजनेस कर ही नहीं पाएंगे क्योंकि आप कोई भी बिजनेस करेंगे तो उस समय बिजनेस करने के लिए आपको कुछ अमाउंट को इन्वेस्टमेंट करना पड़ता है। यदि आप इन्वेस्टमेंट करने से डरते हैं तो आप बिजनेस नहीं कर पाएंगे जब आप इन्वेस्टमेंट करने के लिए सोच रहे हैं कि यदि मैं इनवेस्टमेंट करूंगा तो कोई लाभ ही ना मिले तो पैसा ही डूब जाएगा तो आप इस विचार को यहीं पर त्याग दीजिए और आप इन्वेस्टमेंट करिए क्योंकि बिजनेस में रिस्क लेना पड़ता ही है प्रॉफिट एंड लॉस के लिए।

(4) ऊर्जावान रहे

देखिए यदि आप बिजनेस करेंगे तो अकेले बिजनेस तो करेंगे नहीं कुछ समय बाद आपके बिजनेस में हजारों लोग जुड़ जाएंगे। उन हजारों लोग को मोटिवेट करना आपका ड्यूटी हो जाता है क्योंकि यदि आपको अपने प्रोडक्ट को मार्केट में दूसरे प्रोडक्ट से कंपटीशन करवाना है तो आपको पॉजिटिव एनर्जी चाहिए क्योंकि यदि आपके पास पॉजिटिव एनर्जी नहीं रहेगा तो आप अपने एंप्लॉई को कैसे मोटिवेट करेंगे इसीलिए एक मैनेजिंग डायरेक्टर या कंपनी के सीईओ को हमेशा ऊर्जावान रहना चाहिए क्योंकि यदि मैनेजिंग डायरेक्टर या सीईओ ऊर्जावान रहेगा तो कंपनी दिन दूनी रात चौगुनी की रफ्तार से आगे बढ़ता जाएगा।

(5) अपनी सर्विस या प्रोडक्ट को समय-समय पर जांचते पर रखते रहना चाहिए

ऐसा नहीं है आपने बिजनेस की शुरुआत कर दी और बिजनेस अच्छा भी चलने लगा और आप बिना किसी चिंता के ऑफिस में बैठने लगे बस आपको लग रहा है कि चलो बिजनेस तो चल ही रहा है लेकिन ऐसा नहीं करना है आपको टाइम टू टाइम स्वयं जाकर के जो आप सर्विस या प्रोडक्ट को प्रोवाइड कर रहे हैं उसकी जांच करना चाहिए क्योंकि जो आपकी कंपनी से सर्विस या प्रोडक्ट प्रोड्यूस हो रहा है क्या वह परिस्थिति के अनुरूप है अर्थात क्या वह ऐसे ऑडियंस को टारगेट कर पा रहा है जिसके लिए प्रोडक्ट बनाया गया है। इन सब बातों को ग्रास रूट लेवल पर आकर के एग्जीक्यूट करना है।

(6) टीमवर्क में काम करना है

देखिए कंपनी जो है अकेले की दम पर नहीं चलता है कंपनी में एक चपरासी से लेकर के क्लर्क, सुपरवाइजर और इंजीनियर और साथ ही साथ मैनेजर की एक अहम भूमिका रहती है। यदि आप कोई भी कंपनी रन कर रहे हैं तो यदि आप टीमवर्क में मिलकर काम नहीं करेंगे तो आपको लॉस भी हो सकता है टीमवर्क एक ऐसा टर्म है जहां पर आपको सभी को साथ लेकर के कंपनी को आगे बढ़ाने के लिए मोटिवेट करता है।

(7) आपके विचार डाउन टू अर्थ होने चाहिए

आप बिजनेस करना प्रारंभ कर दिए और आपको मुनाफा भी अच्छा हो रहा है आपके मन में अहंकार आ गया कि मैं तो सबसे अमीर आदमी हूं और जो मेरे कंपनी में काम कर रहे हैं वह तो गरीब है। लेकिन आपको ऐसे विचारों को त्याग करना है क्योंकि आपके विचार डाउन टू अर्थ होने चाहिए यानी जमीन से जुड़े हुए विचार होना चाहिए जिस परिवेश से आप निकले हैं जो समस्याएं अपने झेली है उन्ही समस्याओं को लेकर के अपनी कंपनी के एंप्लॉई के बीच आपको कन्वर्सेशन शुरू करनी है क्योंकि कन्वर्सेशन के माध्यम से अपनी कंपनी को एक नया आयाम दे सकते हैं और साथ ही साथ आपकी कंपनी घोड़े की रफ्तार से भी तेज भागने लगेगी।

(8) मार्केटिंग की रणनीति बनाएं

यदि आप अपने प्रोडक्ट को या सर्विस को करोड़ परिवार में पहुंचाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको मार्केटिंग की रणनीति बनाना पड़ेगा। मार्केटिंग की रणनीति से आशय यह है कि सबसे पहले आपको यह सोचना है कि अपने प्रोडक्ट को हम कैसे अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाएं ऐसी हमारी क्या मार्केट की नीति होनी चाहिए और साथ ही साथ यह भी एनालिसिस कर लेना है कि जो हम सर्विस या प्रोडक्ट लोगों को अवेलेबल करने के लिए कंपनी खोले हैं क्या वहां सर्विस या प्रोडक्ट दूसरी कंपनी की अपेक्षा सस्ता टिकाऊ और कुछ नयापन है यदि आप इन सब बातों को लेकर के एहतियातन बरतते हैं तो आप एक सफल बिजनेसमैन बन सकते हैं और मार्केट की स्ट्रेटजी बनाने के लिए आपको कंज्यूमर के मूड को समझना पड़ता है।

(9)टीम को मैनेज करना

कोई भी कंपनी आगे तभी बढ़ती है जब आपको अपनी टीम को मैनेज करना आता है। यदि आपको अपना टीम मैनेज करना नहीं आएगा तब आप एक सफल बिजनेसमैन नहीं बन सकते हैं टीम को मैनेज करने से मतलब यह है कि आपको समय-समय पर यह जांचना परखना पड़ेगा कि आपके द्वारा हायर की गई जो टीम लीडर मैनेजर हैं और सीईओ हैं वह अच्छे से कम तो कर रहे हैं यदि अच्छे से कम नहीं कर रहे हैं उनको पद से हटाना पड़ता है क्योंकि बिजनेस इमोशन से नहीं चलता है बिजनेस दिमाग और रिस्क से चलता है इसलिए मैनेजिंग डायरेक्टर को समय-समय पर वेबीनार या सेमिनार के माध्यम से टीम को मैनेज करते रहना चाहिए क्योंकि इसलिए आवश्यक हो जाता है जो टीम के बीच कम्युनिकेशन गैप है वह समाप्त हो जाए अन्यथा कम्युनिटी कम्युनिकेशन गैप की वजह से आपकी कंपनी घाटे में ही जा सकती है।

निष्कर्ष:

बिजनेस करने के लिए स्किल बहुत मायने रखती है यदि आपके अंदर उपर्युक्त बताई गई स्किल नहीं रहेगी तो आप एक सफल बिजनेसमैन नहीं बन सकते हैं।

बिजनेस को शुरू करने के लिए सबसे इंपॉर्टेंट स्किल क्या है?

बिजनेस की शुरुआत करने के लिए सबसे इंपॉर्टेंट स्किल कम्युनिकेशन है यदि आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स शार्प रहेगी तब आप अपने बिजनेस को अच्छी तरह से रन अप करा सकते हैं।

एक सफल बिजनेसमैन का तीन इंर्पोटेंट स्किल क्या है?

प्रभावी संचार: विचारों को स्पष्ट और सटीक रूप से व्यक्त करने की क्षमता, टीम और ग्राहकों के साथ मजबूत संबंध बनाने में मदद करती है।
नेतृत्व: टीम को प्रेरित करने, सही दिशा देने और कठिन निर्णय लेने की क्षमता।
समस्या समाधान: जटिल समस्याओं को पहचानने, विश्लेषण करने और उनके प्रभावी समाधान ढूंढने की दक्षता।

एक सक्सेसफुल बिजनेसमैन बनने के लिए आपके पास क्या होना चाहिए

एक सक्सेसफुल बिजनेस बनने के लिए आपके पास दूरदर्शितापूर्ण सोच होनी चाहिए और साथ ही साथ कम्युनिकेशन स्किल्स शार्प होनी चाहिए और टीम को मैनेज करने की कैपेसिटी होनी चाहिए और इसके अलावा आपके अंदर काम करने की लगन और टीम स्पिरिट की भावना भी रहनी चाहिए।

बेसिक बिजनेस स्किल क्या है?

बेसिक बिजनेस स्किल आपकी कम्युनिकेशन स्किल और जुनून और लगन है।

एक सफल बिजनेसमैन बनने के लिए अपने पर्सनालिटी में क्या सुधार करना चाहिए?

एक सफल बिजनेसमैन बनने के लिए आपके अंदर आत्मविश्वास और डिसीजन मेकिंग पावर और इसके अलावा पॉजिटिव थॉट और लगन होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here